ऋषिकेश से कर्णप्रयाग सिर्फ डेढ़ घंटे में, रेलवे लाइन का निर्माण शुरू, जानिए खास बातें (Work start for rishikesh karnprayag rail network )
Connect with us
Image: Work start for rishikesh karnprayag rail network

ऋषिकेश से कर्णप्रयाग सिर्फ डेढ़ घंटे में, रेलवे लाइन का निर्माण शुरू, जानिए खास बातें

ऋषिकेश से कर्णप्रयाग सिर्फ डेढ़ घंटे में, रेलवे लाइन का निर्माण शुरू, जानिए खास बातें

उत्तराखंड के लोगों के लिए एक और खुशखबरी है। जिस घड़ी का काफी वक्त से इंतजार किया जा रहा था, आखिरकार वो घड़ी आ गई है। सबसे बहुप्रतीक्षित रेलवे नेटवर्क ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल लाइन का निर्माण कार्य शुरू हो गया है। इस रेल लाइन की खास बातें क्या हैं, इस बारे में हम आपको बता रहे हैं। सबसे पहले इतना जान लीजिए कि राजधानी देहरादून में मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने सचिवालय में एक अहम समीक्षा बैठक ली। उत्पल कुमार जबसे आए हैं, तबसे दिख रहा है कि वो लगातार एक्शन में हैं। सचिवालय में बैठक ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल लाइन निर्माण प्रगति को लेकर की गई। इस बैठक में बताया गया है कि ऋषिकेष-कर्णप्रयाग रेलवे लाइन का निर्माण कार्य शुरू हो गया है। इस रेलवे लाइन की लंबाई 125.20 किलोमीटर होगी।

यह भी पढें - 'राम मंदिर बनने नहीं देगी कांग्रेस ?' बीजेपी के सवाल पर राहुल गांधी चुप क्यों ?
यह भी पढें - Video: उत्तराखंड में अगले 24 घंटे होगी जबरदस्त बर्फबारी, बर्फानी बने बाबा केदार
बताया जा रहा है कि इस लाइन के निर्माण कार्य में करीब 16216 करोड़ रुपये की लागत आएगी। इसके अलावा इस बैठक में बताया गया है कि वीरभद्र रेलवे स्टेशन से निर्माण की सभी औपचारिकताएं पूरी कर ली गई हैं। चंद्रभागा नदी पर पुल का निर्माण किया जा रहा है। एक और खास बात ये है कि इस रेलवे लाइन का 85 फीसदी हिस्सा टनल से होकर गुजरेगा। यानि 125 किलोमीटर के इस पूरे रूट में 105 किलोमीटर की 17 टनल होंगी। इन टनल की मदद से सिर्फ डेढ़ घंटे में ऋषिकेश से कर्णप्रयाग पहुंचा जा सकेगा। आम तौर पर ऋषिकेश से कर्णप्रयाग पहुंचने में 7 घंटे का वक्त लगता है। लेकिन रेल मार्ग बनने से ये बेहद ही आसान हो जाएगा। इस रेल लाइन निर्माण योजना के तहत 98.54 किलोमीटर एस्केप टनल का निर्माण भी किया जायेगा।

यह भी पढें - उत्तराखंड के 17 सालों में पहली बार, इस विभाग में अलग अलग पदों के लिए भर्तियां शुरू
यह भी पढें - HNB गढ़वाल यूनिवर्सिटी के कुलसचिव निलंबित, वीसी ने जारी किए आदेश
2835 मीटर लंबाई में 16 पुलों का निर्माण होगा। खास बात ये है कि ये ट्रेन 100 किमी प्रति घंटे की स्पीड से चलेगी। इसके साथ ही बताया जा रहा है कि इस रेलवे लाइन के निर्माण में 791 हेक्टेयर भूमि का इस्तेमाल होगा। इसमें 564 हेक्टेयर वन भूमि ली जाएगी और 60 हेक्टेयर सरकारी भूमि ली जाएगी। 167 हेक्टेयर निजी भूमि के अधिग्रहण की कार्रवाई आखिरी फेज में है। इसके अलावा खास बात ये है कि चारधाम रेल कनेक्टिविटी की 327 किमी रेल लाइन का फाइनल लोकेशन सर्वे हो गया है। अब तकनीकी परीक्षण का कार्य चल रहा है। कुल मिलाकर कहें तो उत्तराखंड के लोगों के लिए ये आज की बेहतरीन खबर है। देखना है कि कब तक ये रेल रूट बनकर तैयार होता है।

Loading...
Donate Plasma Campaign of Uttarakhand Govt

Latest Uttarakhand News Articles

वीडियो : केदारनाथ मंदिर का ये रहस्य आपने नहीं सुना होगा
वीडियो : Uttarakhand में COVID Hospitals के ये हाल हैं
वीडियो : रुद्रप्रयाग के दो जाँबाज..अपने दम पर बचाई 50 लोगों की जान

उत्तराखंड की ट्रेंडिंग खबरें

वायरल वीडियो

इमेज गैलरी

Uttarakhand CM Teerath Singh Rawat Apeal to Doctors in Uttarakhand

Trending

SEARCH

पढ़िये... उत्तराखंड की सत्ता से जुड़ी हर खबर, संस्कृति से जुड़ी हर बात और रिवाजों से जुड़े सभी पहलू.. rajyasameeksha.com पर।


Copyright © 2017-2021 राज्य समीक्षा.

To Top