उत्तराखंड के सिद्धबली धाम के बारे में आप ये बात जानेंगे, तो हनुमान जी की भक्ति में खो जाएंगे (Advance booking till 2025 in Sidhbali temple of uttarakhand)
Connect with us
Image: Advance booking till 2025 in Sidhbali temple of uttarakhand

उत्तराखंड के सिद्धबली धाम के बारे में आप ये बात जानेंगे, तो हनुमान जी की भक्ति में खो जाएंगे

उत्तराखंड के सिद्धबली धाम के बारे में आप ये बात जानेंगे, तो हनुमान जी की भक्ति में खो जाएंगे

उत्तराखंड में मौजूद हनुमानजी का ये मंदिर देश ही नहीं बल्कि दुनिया में भी चमत्कारों के लिए जाना जाता है। खास बात ये है कि इस मंदिर में भंडारा करवाने के लिए 2025 तक बुकिंग हो चुकी है। ये हैं कोटद्वार में मौजूद श्री सिद्धबली धाम। बताया जाता है कि इस मंदिर से आज तक कोई भी श्रद्धालु खाली हाथ वापस नहीं लौटा। यहां प्रभु हनुमान से मांगी गई हर मुराद पूरी होती है। इस बात का अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि यहां जिसकी भी मनोकामना पूरी होती है, वो भंडारा कराता है और भंडारे की बुकिंग 2025 तक के लिए फुल हो चुकी है। ये बात साबित करती है कि कितने हजारों लोगों की मनोकामना यहां पूरी हुई होगी। कोटद्वार स्थित श्री सिद्धबली धाम हिंदुओं की आस्था का केंद्र हैं। पवनपुत्र हनुमान के इस पौराणिक मंदिर का जिक्र स्कंद पुराण में भी किया गया है।

यह भी पढें - Video: देवभूमि में यहां मौजूद है महादेव का शक्ति पुंज, वैज्ञानिकों की रिसर्च में बड़ी बातें !
यह भी पढें - पाताल भुवनेश्वर, जहां प्रलय के दिन का राज़ छिपा है, गणेश जी का कटा सिर भी यहीं है !
ये मंदिर खोह नदी के किनारे है। कहा जाता है कि खोह नदी में कई बार बाढ़ आई लेकिन इस मंदिर का कुछ भी नहीं बिगाड़ पाई।इस मंदिर की स्थापना की भी अलग कहानी है। कहा जाता है कि यहां तप साधना करने के बाद एक सिद्ध बाबा को हनुमानजी की सिद्धि प्राप्त हुई थी। सिद्ध बाबा ने उस जगह पर बजरंगबली की एक विशाल पाषाणी प्रतिमा का निर्माण किया था । इससे इसका नाम सिद्धबली पड गया अथार्त् सिद्ध बाबा द्वारा स्थापित बजरंगबली। श्री सिद्धबली धाम को गुरु गोरखनाथ जी की तपस्थली कहा जाता है। बताया जाता है कि पुराने वक्त में यहां सिद्ध पिंडियां मौजूद थी। 80 के दशक में मंदिर में बाबा की मूर्ति स्थापित हुई। इसके बाद ही मंदिर को संवारा गया था। ये भी कहा जाता है कि हनुमान जी संजीवनी बूटी लेने के लिए इसी रास्ते गए थे। इस मंदिर में विदेश से भी श्रद्धालु घूमने आते हैं।

यह भी पढें - उत्तराखंड के ‘काशी विश्वनाथ’, यहां आप नहीं गए, तो महादेव खुद बुलाते हैं !
यह भी पढें - जब उत्तराखंड आए थे स्वामी विवेकानंद, 117 साल पहले बताई थी देवभूमि के बारे में बड़ी बातें
मुराद पूरी होने के बाद श्रद्धालु इस मंदिर में ही भंडारा करवाते हैं। भंडारे के आयोजन के लिए मंदिर समिति की ओर से ही बुकिंग की जाती है। इस मंदिर के भंडारा बुकिंग काउंटर के प्रभारियों ने एक वेबसाइट को बताया है कि रविवार, मंगलवार और शनिवार को यहां विशेष भंडारा होता है। खास बात ये है कि रविवार और मंगलवार के भंडारे का आयोजन 2025 तक बुक हो चुका है। इसके अलावा शनिवार के भंडारे लिए भी 2024 तक एडवांस बुकिंग हो चुकी है। बाकी दिनों के भंडारे 2019 तक के लिए बुक हैं। श्री सिद्धबली धाम की महिमा देश ही नहीं, बल्कि विदेशों तक है। हर साल इस मंदिर में बाबा के दर्शन के लिए लाखों श्रद्धालु आते हैं। भंडारे की बुकिंग कराने वाले लोगों में विदेशों में रहने वाले भी कई लोग शामिल हैं। कुल मिलाकर कहें तो इस धाम ने एक बड़ा रिकॉर्ड भी अपने नाम किया।

Loading...

Latest Uttarakhand News Articles

वीडियो : खूबसूरत उत्तराखंड : स्वर्गारोहिणी
वीडियो : IPS अधिकारी के रिटायर्मेंट कार्यक्रम में कांस्टेबल को देवता आ गया
वीडियो : यहां जीवित हो उठता है मृत व्यक्ति - लाखामंडल उत्तराखंड

उत्तराखंड की ट्रेंडिंग खबरें

वायरल वीडियो

इमेज गैलरी

SEARCH

To Top