Connect with us
Uttarakhand Government Coronavirus donate Information
Image: Story of jagni mela of uttarakhand

Video: देवभूमि की बेमिसाल परंपरा, यहां भगवान शिव खुद तय करते हैं मेले की तारीख

Video: देवभूमि की बेमिसाल परंपरा, यहां भगवान शिव खुद तय करते हैं मेले की तारीख

उत्तराखंड में परंपराएं ना जाने कितनी सदियों से चली आ रही हैं और अभी भी इनका निर्वहन हो रहा है। कुछ परंपराएं हैरान भी करती हैं तो कुछ परंपराएं मन में कई सवाल खड़े करती हैं। इस बीच हम आज आपको एक ऐसी परंपरा के बारे में बता रहे हैं, जहां भगवान शिव के आदेश पर एक मेले की तिथि निर्धारित की जाती है। सबसे पहले ये बात जान लीजिए कि इसे छोटा कुंभ कहा जाता है। ये मेला हर 15 साल में एक बार आयोजित किया जाता है। बताया जाता है कि ये मेला धार्मिक विविधताओं का प्रतीक है। इसे जगनी मेला कहा जाता है और ये स्यांकुरी गांव में आयोजित किया जाता है। पिथौरागढ़ से कुछ दूर धारचूला तहसील के कैलास मानसरोवर यात्रा मार्ग पर ये मेला आयोजित होता है। खास बात ये है कि इस मेले में भारत और नेपाल के ग्रामीण बढ़ चढ़कर हिस्सा लेते हैं।

यह भी पढें - Video: उत्तराखंड के इस मंदिर में हुई थी शिवजी और मां पार्वती की शादी, फिर मनाई गई शिवरात्रि !
यह भी पढें - उत्तराखंड का वो मंदिर, जहां निवास करती हैं धरती की सबसे जागृत महाकाली !
स्थानीय भाषा में जगनी मेले को कुंभ मेला कहा जाता है। इस मेले को लेकर स्थानीय लोगों में खास उत्सुकता बनी रहती है। लोग कई सालों तक इस मेले की तिथि घोषित होने का इंतजार करते हैं। इस बार फरवरी के महीने में इस शानदार मेले का आयोजन किया गया। मानसरोवर यात्रा मार्ग से लगे जम्कू, खेत, खेला, गर्गुवा, रांथी, रफली, जुम्मा गांव के लोग इस मेले में शामिल होते हैं। तो दूसरी तरफ नेपाल के भी दर्जनों गांवों के लोग इस मेले में आते हैं। मेले में ग्रामीण ने अपने परंपरागत वाद्य यंत्रों के साथ देवता की स्तुति गाते हैं। जुम्मा के नौला देवता, रांथी हुक्क्षर देवता, गर्गुवा के पटौजा देवता ,खेला के बरम देवता और जुम्मा के हुक्क्षर देवता के मंदिरों में ये मेला आयोजित होता है। इस मेले की सबसे खास बात ये है कि इसके आयोजन की तिथि इंसानों द्वारा तय नहीं होती। यह भी पढें - उत्तराखंड की बेमिसाल परंपरा, यहां दूल्हा नहीं दुल्हन लाती है बारात, दहेज में सिर्फ 5 बर्तन
यह भी पढें - Video: देवभूमि उत्तराखंड में 60 दशक पुरानी कुटिया, जिसका टिकट ताजमहल से भी महंगा है
जी हां कहा जाता है कि देवताओं के प्रतिनिधि देवडांगर इस बारे में फैसला सुनाते हैं। कहा जाता है कि देवडांगर को भगवान शिव द्वारा आदेश दिया जाता है। महादेव द्वारा आदेश दिए जाने के बाद देवडांगर इसकी तिथि निर्धारित करते हैं। पिछली बार इस मेले का आयोजन 2003 में किया गया था। इस दौरान ही देवडांगरों ने 2018 की फरवरी महीने के अंतिम तिथि को मेला लगाने की घोषणा की थी। इस बार अभी तक देवडांगरों ने अगले मेले की तिथि निर्धारित नहीं की है। आप भी इस मेले का ये खूबसूरत वीडियो देखिए।

YouTube चैनल सब्सक्राइब करें -

Loading...

Latest Uttarakhand News Articles

वीडियो : यहां जीवित हो उठता है मृत व्यक्ति - लाखामंडल उत्तराखंड
वीडियो : श्री बदरीनाथ धाम से जुड़े अनसुने रहस्य
वीडियो : श्री बदरीनाथ धाम में बर्फबारी का मनमोहक नजारा देखिये..

उत्तराखंड की ट्रेंडिंग खबरें

वायरल वीडियो

इमेज गैलरी

SEARCH

To Top