Connect with us
Image: Protest in gairsain

Video: गैरसैंण में गदर...प्रदर्शनकारियों ने तोड़े बैरियर, पुलिस से हुई झड़प

Video: गैरसैंण में गदर...प्रदर्शनकारियों ने तोड़े बैरियर, पुलिस से हुई झड़प

गैरसैंण में बजट सत्र की शुरुआत राज्यपाल केके पॉल के अभिभाषण से हो गई है। बजट सेशन जैसे ही शुरू हुआ तो विपक्ष आक्रामक हो गया। सदन के भीतर सरकार को घेरने के लिए कांग्रेस ने कमान संभाली तो बाहर उत्तराखंड क्रांति दल। सत्र के पहले दिन के पहले घंटे से ही कांग्रेस ने अपना काम शुरू कर दिया। गैरसैंण स्थायी राजधानी के मुद्दे को कांग्रेस पूरी तरह भुनाने के मूड में हैं। प्रदर्शनकारियों ने भराड़ीसैंण में स्थायी राजधानी की मांग को लेकर रास्ते जाम कर दिए। बताया जा रहा है कि इस दौरान एसपी चमोली की गाड़ी भी रोकी गई। हालातों को देखते हुए पुलिस बल भेजा गया लेकिन प्रदर्शनकारियों ने कई घंटों तक कोई भी वाहन आगे नहीं जाने दिया। चमोली एसपी तृप्ति भट्ट की गाड़ी को भी रास्ते पर ही रोक दिया गया था। काफी समझाने के बाद एसपी की गाड़ी को आगे जाने दिया गया। वहीं सदन के बाहर पुलिस द्वारा बैरियर लगाकर प्रदर्शनकारियों को रोका तो उन्होंने बैरियर तोड़ दिए।

यह भी पढें - गैरसैंण में पेश होगा त्रिवेंद्र सरकार का बजट, मार्च में उत्तराखंड को मिलेंगे बड़े तोहफे !
यह भी पढें - उत्तराखंड में त्रिवेंद्र सरकार का एक साल, पलायन मिटाने और रोजगार के लिए बड़ी घोषणाएं
पुलिसकर्मियों के साथ प्रदर्शनकारियों की झड़प हुई। इससे पहले मंगलवार की सुबह आंदोलनकारियों को दिवालीखाल में पुलिस द्वारा रोका गया। कुल मिलाकर कहें तो गैरसैंण में उत्तराखंड के बजट सत्र का पहला दिन हंगामेदार रहा। सदन के अंदर और बाहर गैरसैंण को स्थायी राजधानी बनाने की मांग को लेकर जमकर हंगामा हुआ। विधानसभा परिसर के बाहर और जंगल चट्टी, दिवालीखाल, मेहलचौरी और गैरसैंण में आंदोलनकारियों ने जबरदस्त प्रदर्शन किया। कुछ आंदोलनकारी पुलिस को चकमा देकर विधानसभा परिसर तक घुसने में सफल रहे। तमाम सुरक्षा इंतजामों के बावजूद उत्तराखंड राज्य संघर्ष समिति और यूकेडी के प्रदर्शनकारी जंगलों के रास्ते अलग-अलग टुकड़ियों में विधानसभा परिसर में घुसे। भारी भरकम पुलिस बल जब उन्हें पकड़ने के लिए दौड़ा तो आंदोलनकारी झंडे लेकर आगे बढ़ने लगे।

यह भी पढें - उत्तराखण्ड आन्दोलन से मिला राज्य ... क्या "गैरसैण राजधानी" आन्दोलन हो रहा जरूरी ?
यह भी पढें - देहरादून की हवा में जहर, देश के टॉप 10 प्रदूषित शहरों में शामिल !
सबसे ज्यादा हंगामा दिवालीखाल में देखने को मिला। यहां पर बेरिकेंटिंग की गई थी। आंदोलकारी आगे बढ़े तो सुरक्षा कर्मियों ने वॉटर कैनन से उन्हें रोकना चाहा। कुछ आंदोलनकारी पानी के टैंकर पर ही चढ़ गए। यूकेडी का कहना है कि पिछले 17 सालों में किसी भी सरकार ने गैरसैंण को स्थायी राजधानी बनाने में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई। ईटीवी द्वारा तैयार किया गया ये वीडियो देखिए।

YouTube चैनल सब्सक्राइब करें -

Latest Uttarakhand News Articles

वीडियो : आछरी - गढ़वाली गीत
वीडियो : DM स्वाति भदौरिया से खास बातचीत
वीडियो : श्री बदरीनाथ धाम से जुड़े अनसुने रहस्य
Loading...

उत्तराखंड की ट्रेंडिंग खबरें

वायरल वीडियो

इमेज गैलरी

SEARCH

To Top