Connect with us
Image: 5 pahadi songs dedicated to mother on Mothers Day

मदर्स डे पर विशेष : 5 प्रसिद्ध पहाड़ी गीत जिनमे मां को किया गया है याद... आप भी सुनिए

मदर्स डे पर विशेष : 5 प्रसिद्ध पहाड़ी गीत जिनमे मां को किया गया है याद... आप भी सुनिए

मातृ देवो भवः की भावना वाले अपने उत्तराखंड में मां को भगवान से भी अधिक माना गया है। मां शब्द में ही एक ऐसी शक्ति है जिसे किसी भी मुसीबत में हम सबसे पहले पुकारते हैं। बिना मां के हमारे अस्तित्व की कल्पना करना भी असंभव है, बल्कि मां की महिमा को शब्दों में बयान करना ही संभव नहीं। मां के इसी प्यार, समर्पण और ताकत को सम्मान देने के लिए यह एक दिन माँ को समर्पित करने के लिए मदर्स डे मनाया जाता है। गूगल ने मदर्स डे पर एक बेहतरीन रंग-बिरंगा डूडल बनाया है। इस डूडल में एक मादा डायनासोर और बच्चा डायनासोर है। डूडल में देखा जा सकता है कि डायनासोर जैसे विशालकाय और शक्तिशाली जानवर को भी मां की मातृ छाया की जरूरत होती है। इस मदर्स डे पर हम आपके लिए लेकर आये हैं उत्तराखंड के जनमानस से जुड़े हुए पांच गीत और कवितायेँ जो माँ को समर्पित हैं। सुनिए ...
यह भी पढें - देवभूमि की देवी अनुसूया, जिनके आगे मासूम बच्चे बन गए थे ब्रह्मा, विष्णु, महेश

1. सौणा का मैना ब्वे कनु क्वे रैणा

नरेन्द्र सिंह नेगी द्वारा गाया गया ये कालजयी गीत माँ को समर्पित है। यह गीत नेगी जी द्वारा माँ को याद करते हुए बनाया गया है। माँ से दूर कोई भी इंसान बदलते मौसमों में कैसे अपनी माँ को याद करते हुए खुद ही कह उठता है कि तेरे बगैर सब अधूरा है माँ... सुनिए और महसूस कीजिए ...
यह भी पढें - उत्तराखंड में दुनिया के 5 सबसे खूबसूरत बुग्याल, यकीन नहीं होता तो ये तस्वीरें देखिये

2. सात समोदर पार चि जणू ब्वे

यह गढ़वाली गीत उत्तराखंड के महान संगीतकार स्वर्गीय श्री चन्द्र सिंह राही द्वारा लिखा और गाया गया है। इस गीत में राही जी द्वारा माँ को छोड़ कर विदेश जाने की व्यथा को दिल को छू लेने वाले अपने ही अंदाज में व्यक्त किया है।
यह भी पढें - उत्तराखंड की वो मां, जिसे दुनिया ने कहा ‘पहाड़ की दुर्गा’, गूगल ने किया सलाम

3. हे माता त्येरी जै जैकारा

कुमाऊ के सुप्रसिद्ध कवि, लेखक और गायक गिरीश तिवारी 'गिर्दा' का यह कालजयी गीत मातृभूमि उत्तराखंड के लिए समर्पित है। गीत के बोल और संगीत आज भी युवा संगीतकारों के लिए प्रेरणादायक हैं। गीत सुनिए और गिर्दा के शब्दों के जरिये मातृभूमि को प्रणाम कर लीजिए...
यह भी पढें - Video: बॉलीवुड में उत्तराखंड के शिक्षा मंत्री के बेटे की एंट्री, 18 मई को रिलीज होगी फिल्म

4. 'ईजा का चेहरा' कुमाऊँनी कविता

चर्चित कुमाऊँनी कवि और लेखक डॉ. अनिल कार्की जी ने अपनी इस कविता में "ईजा के चेहरे" के बारे में लिखा है। कुमाऊँनी में ईजा का मतलब "माँ" होता है। कवि ने माँ की हकीकत को बयां किया है, कि माँ अपने घर के काम काज के साथ साथ किस तरह अपने बच्चों का ख्याल रखते हुये एक कठिन जीवन को हंसी हंसी जी जाती है। सुनिये...
यह भी पढें - सिर्फ उत्तराखंड में ऐसा हो रहा है... सीएम एप पर कीजिए शिकायत, तुरंत हो रही है कार्रवाई

5. हे माजी पहाड़ छुटी ग्ये

यू ट्यूब पर वायरल यह कुमाऊँनी गीत एक ऐसे बच्चे को ध्यान में रखकर बनाया गया है जो काम करने और पैसे कमाने को पहाड़ छोड़ देता है। पहाड़ छोड़ने के बाद एक बच्चा अपनी माँ को किस प्रकार याद करता है, यह इस गीत में दिखाया गया है। आप भी देखिये और महसूस कीजिए ...

Loading...

Latest Uttarakhand News Articles

वीडियो : बाघ-तेंदुओं से अकेले ही भिड़ जाता है पहाड़ का भोटिया कुत्ता
वीडियो : आछरी - गढ़वाली गीत
वीडियो : उत्तराखंड का अमृत: किलमोड़ा

उत्तराखंड की ट्रेंडिंग खबरें

वायरल वीडियो

इमेज गैलरी

Trending

SEARCH

To Top