देवभूमि के पंचकेदार...यहां शिव के किन-किन रूपों की होती है पूजा? आप भी जानिए (Story of Panch Kedar of Uttarakhand)
Connect with us
Uttarakhand Govt Denghu Awareness Campaign
Image: Story of Panch Kedar of Uttarakhand

देवभूमि के पंचकेदार...यहां शिव के किन-किन रूपों की होती है पूजा? आप भी जानिए

केदारनाथ धाम में भगवान शिव बैल की पीठ की आकृति-पिंड के रूप में पूजे जाते हैं। इसी तरह रुद्रनाथ में भगवान शिव के मुख, मदमहेश्वर में नाभि, तुंगनाथ में भुजा और कल्पेश्वर में शिव की जटा रूप में पूजा होती है।

देवभूमि उत्तराखंड के कण-कण में भगवान शिव का वास है। भोलेनाथ श्रद्धा के देव हैं। श्रावण मास के पहले दिन से ही भगवान आशुतोष का जलाभिषेक प्रारंभ गया है। कोरोना संकट के चलते इस बार शिवालयों में लोगों की आवाजाही पर रोक है, लेकिन राज्य समीक्षा आपके लिए शिवधामों की खास श्रृंखला लेकर आया है। जिसके जरिए आप घर बैठे भगवान आशुतोष के दर्शन का फल प्राप्त कर सकते हैं। पहली कड़ी में हम हिमालय के अंचल में स्थित पंचकेदार धामों के बारे में जानेंगे। पंचकेदार में पहला स्थान भगवान केदारनाथ का है। भगवान शिव के धाम केदारनाथ के कपाट श्रद्धालुओं के दर्शन के लिए खुल गए हैं। केदारनाथ का मंदिर 3593 फीट की ऊंचाई पर बना हुआ है। श्री केदारनाथ को द्वादश ज्योतिर्लिंगों में से एक माना जाता है। इतनी ऊंचाई पर मंदिर का निर्माण कैसे कराया गया, इसे लेकर आज भी कोई स्पष्ट जानकारी नहीं है। आगे जानिए

केदारनाथ मे ऐसे होती है पूजा

Story of Panch Kedar of Uttarakhand
1 / 4

माना जाता है कि इसकी स्थापना आदिगुरु शंकराचार्य ने की। केदारनाथ धाम में भगवान शिव बैल की पीठ की आकृति-पिंड के रूप में पूजे जाते हैं। मान्यता है कि जब भगवान शंकर बैल के रूप में अंतर्धान हुए, तो उनके धड़ से ऊपर का हिस्सा काठमाण्डू में प्रकट हुआ, जहां भगवान भोलेनाथ पशुपतिनाथ के रूप में विराजमान हैं।

रुद्रनाथ में मुख की पूजा

Story of Panch Kedar of Uttarakhand
2 / 4

इसी तरह भगवान शिव का मुख रुद्रनाथ में, नाभि मदमहेश्वर में, भुजाएं तुंगनाथ में और जटाएं कल्पेश्वर में प्रकट हुईं। इसलिए इन चार स्थानों सहित श्री केदारनाथ को पंचकेदार कहा जाता है। यहां भगवान शिव के भव्य मंदिर बने हुए हैं। पंचकेदार की स्थापना का संबंध महाभारत काल और पांडवों से जुड़ा माना जाता है। कहते हैं कि महाभारत के युद्ध में विजयी होने के बाद पांडव अपने सगे-संबंधियों की हत्या के पाप से मुक्ति पाना चाहते थे।

मदमहेश्वर में नाभि, तुंगनाथ में भुजा

Story of Panch Kedar of Uttarakhand
3 / 4

इसके लिए वो भगवान शिव का आशीर्वाद हासिल करना चाहते थे, लेकिन भगवान शिव पांडवों से नाराज थे। इसलिए जब पांडव काशी गए तो भगवान शिव वहां से अंतर्धान हो गए। पांडव भगवान शिव को खोजते हुए हिमालय तक आ पहुंचे। तब भगवान शिव बैल का रूप धारण कर पांडवों को छकाते रहे। वो बैल बनकर पशुओं के झुंड में शामिल हो गए। शिव की इस लीला पर पांडवों को शक हो गया।

कल्पेश्वर में जटाओं की पूजा

Story of Panch Kedar of Uttarakhand
4 / 4

तभी भीम ने पशुओं के झुंड को रोकने के लिए अपना विशाल रूप धारण कर दो पहाड़ों पर पैर फैला दिए। सारे पशु भीम के पैरों के नीचे से गुजर गए, लेकिन भगवान शिव पैर के नीचे से जाने को तैयार नहीं हुए। भीम बलपूर्वक इस बैल रूपी शिव पर झपटे, लेकिन बैल भूमि में अंतर्धान होने लगा। तब भीम ने बैल की पीठ का भाग पकड़ लिया। कहते हैं कि पांडवों की दृढ़ इच्छाशक्ति देखकर भगवान भोलेनाथ प्रसन्न हुए और उन्हें तत्काल दर्शन देकर पांडवों को पाप से मुक्त कर दिया। तब से केदारनाथ धाम में भगवान शिव बैल की पीठ की आकृति-पिंड के रूप में पूजे जाते हैं।

Loading...

Latest Uttarakhand News Articles

वीडियो : DM स्वाति भदौरिया से खास बातचीत
वीडियो : श्री बदरीनाथ धाम में बर्फबारी का मनमोहक नजारा देखिये..
वीडियो : बाघ-तेंदुओं से अकेले ही भिड़ जाता है पहाड़ का भोटिया कुत्ता

उत्तराखंड की ट्रेंडिंग खबरें

वायरल वीडियो

इमेज गैलरी

SEARCH

पढ़िये... उत्तराखंड की सत्ता से जुड़ी हर खबर, संस्कृति से जुड़ी हर बात और रिवाजों से जुड़े सभी पहलू.. rajyasameeksha.com पर।


Copyright © 2017-2020 राज्य समीक्षा.

To Top