उत्तराखंड: कमल रावत के दोषियों के खिलाफ कार्रवाई..एक को नौकरी गई, 5 सस्पेंड (Haldwani Kamal Rawat death case update news)
Connect with us
Image: Haldwani Kamal Rawat death case update news

उत्तराखंड: कमल रावत के दोषियों के खिलाफ कार्रवाई..एक को नौकरी गई, 5 सस्पेंड

कमल के परिजनों ने दोषियों के खिलाफ निलंबन की कार्रवाई पर संतोष जताया, लेकिन वो चाहते हैं कि कमल की पत्नी को नौकरी दी जाए, ताकि वो अपने बच्चों की परवरिश कर सके।

हाईटेंशन लाइन की चपेट में आकर जिंदा जले कमल रावत को अब तक इंसाफ भले ही ना मिला हो, लेकिन इसकी शुरुआत हो गई है। दोषियों के खिलाफ कार्रवाई शुरू हो गई है। सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत के निर्देश पर कमल की मौत के लिए जिम्मेदार अधिकारियों को खिलाफ सख्त एक्शन लिया गया। विभागीय जांच में दोषी पाए गए उपनल से भर्ती एसएसओ चंदन सिंह नगरकोटी की सेवाएं खत्म कर दी गई हैं। इसके अलावा लापरवाही पाए जाने पर 5 अधिकारी-कर्मचारियों को निलंबित कर दिया गया। जिन अधिकारियों के खिलाफ निलंबन की कार्रवाई हुई। उनमें यूपीसीएल के सहायक अभियंता और उपखंड अधिकारी भी शामिल हैं। कमल रावत मौत मामले में शासन ने लापरवाह अधिकारियों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई कर जिम्मेदार पदों पर बैठे अधिकारियों को कड़ा संदेश भी दिया है।

यह भी पढ़ें - ये है पहाड़ में पहला सोलर फार्मिंग प्लांट, योजना से जुड़ेंगे 10 हजार लोग..अच्छी होगी कमाई
हल्द्वानी में 25 सितंबर को ड्यूटी पर जाते वक्त दमुवाढूंगा निवासी कमल रावत नैनीताल रोड पर बिजली के टूटे हुए तार की चपेट में आ गए थे। उनकी जलकर मौत हो गई थी। इस घटना पर अधीक्षण अभियंता अमित कुमार ने तुरंत अधिशासी अभियंता विद्युत वितरण खण्ड ग्रामीण अमित आनंद की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय जांच समिति बनाई थी। जांच में एसएसओ और लाइनमैन की लापरवाही पाई गई। नैनीताल रोड पर हाईटेंशन लाइन की चपेट में आकर जिंदा जले कमल रावत की मौत ने हर पहाड़वासी को भीतर तक झकझोर दिया है। हर तरफ कमल के दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की जा रही है। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने भी इस मामले में जांच के आदेश दिए थे। सरकार के निर्देश के बाद ऊर्जा सचिव राधिका झा ने पूरे मामले की जांच सीनियर स्तर के अधिकारी मुख्य अभियंता (वि) रुद्रपुर क्षेत्र एमएल प्रसाद से कराई थी। उनकी रिपोर्ट के आधार पर कमल की मौत के लिए जिम्मेदार अधिकारियों-कर्मचारियों के खिलाफ निलंबन की कार्रवाई की गई।

यह भी पढ़ें - केदारनाथ में हेलीकॉप्टर संचालन को हरी झंडी, किराया भी हुआ तय
बुधवार को सुभाषनगर उपकेंद्र में कार्यरत एसएसओ की सेवाएं समाप्त कर दी गईं। साथ ही उपखंड अधिकारी नीरज पांडे, सहायक अभियंता मापक रोहिताश पांडे, अवर अभियंता मोहम्मद शाकिब, टीजी 1 लाइन चांद मोहम्मद और लाइनमैन नंदन सिंह भंडारी को निलंबित कर दिया गया। राह चलते मारे गए कमल के परिजनों ने दोषियों के खिलाफ निलंबन की कार्रवाई पर संतोष जताया, लेकिन वो चाहते हैं कि कमल की पत्नी को नौकरी दी जाए। हादसे में मारे गए कमल परिवार में अकेले कमाने वाले शख्स थे। वो क्लीनिक में कंपाउंडर के तौर पर काम कर रहे थे। परिवार के आर्थिक हालात ऐसे हैं कि परिजनों के पास कमल के अंतिम संस्कार तक के लिए पैसे नहीं थे। कमल के दो बच्चे हैं। एक बच्चा पहली कक्षा में है, जबकि बेटी अभी सिर्फ 1 महीने की है। परिजन चाहते हैं कि कमल की पत्नी को नौकरी मिले, ताकि वो अपने बच्चों को परवरिश कर सके।

Loading...

Latest Uttarakhand News Articles

वीडियो : श्री बदरीनाथ धाम में बर्फबारी का मनमोहक नजारा देखिये..
वीडियो : उत्तराखंड में मौजूद है परीलोक...जानिए खैंट पर्वत के रहस्य
वीडियो : उत्तराखंड का अमृत: किलमोड़ा

उत्तराखंड की ट्रेंडिंग खबरें

वायरल वीडियो

इमेज गैलरी

Trending

SEARCH

पढ़िये... उत्तराखंड की सत्ता से जुड़ी हर खबर, संस्कृति से जुड़ी हर बात और रिवाजों से जुड़े सभी पहलू.. rajyasameeksha.com पर।


Copyright © 2017-2020 राज्य समीक्षा.

To Top