गढ़वाल राइफल के जवान का जम्मू में निधन, 12 साल की बेटी का रो-रोकर बुरा हाल (Garhwal Rifle Yashpal Rawat dies in Jammu)
Connect with us
Image: Garhwal Rifle Yashpal Rawat dies in Jammu

गढ़वाल राइफल के जवान का जम्मू में निधन, 12 साल की बेटी का रो-रोकर बुरा हाल

हवलदार यशपाल 3 अक्टूबर को ही पीरूमदारा से जम्मू के लिए रवाना हुए थे। कहा था कि जल्द ही लौटेंगे, लेकिन उनके जाने के तुरंत बाद ही बुरी खबर आ गई।

पहाड़ के लिए एक दुखद खबर जम्मू से आ रही है। जहां 19 गढ़वाल राइफल के हवलदार यशपाल सिंह का अचानक निधन हो गया। उनके निधन से पूरा उत्तराखंड शोक में डूबा है। हवलदार यशपाल सिंह पौड़ी के बीरोंखाल के रहने वाले थे। जब से उनके निधन का समाचार घर पहुंचा है। परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। जवान का पार्थिव शरीर आज हल्द्वानी स्थित पीरूमदारा पहुंचेगा। वहां से पार्थिव शरीर को उनके पैतृक आवास पर ले जाया जाएगा। अंतिम दर्शनों के बाद जवान का सैन्य सम्मान के साथ अंतिम संस्कार होगा। जवान के घर पर इस वक्त मातम पसरा है। परिजन उनके अंतिम दर्शनों का इंतजार कर रहे हैं। पहाड़ के लोग देश के लिए मर मिटने के जज्बे के लिए जाने जाते हैं। यहां के जवान सजग प्रहरी के रूप में सीमा पर तैनात हैं, लेकिन पिछले कुछ वक्त से जवानों को लेकर एक के बाद एक बुरी खबरें मिल रही हैं। उत्तराखंड के लिए ऐसी ही एक बुरी खबर जम्मू बॉर्डर से आई। जहां 6 अक्टूबर को गढ़वाल राइफल के हवलदार यशपाल सिंह रावत का निधन हो गया। वो 40 साल के थे। यशपाल सिंह रावत मूल रूप से पौड़ी के बीरोंखाल के रहने वाले थे। आगे पढिए

यह भी पढ़ें - तो उत्तराखंड में एक साथ खुलेंगे स्कूल-कॉलेज? जानिए 15 अक्टूबर से क्या होगा
इन दिनों यशपाल सिंह रावत का परिवार मयूर विहार, ग्राम दूल्हेपुरी पीरूमदारा में रह रहा है। यशपाल इस वक्त 48 राष्ट्रीय राइफल के 213 ट्रांजिट कैंप जम्मू में तैनात थे। उनके परिजनों ने बताया कि पांच अक्टूबर को ब्रीफिंग के दौरान यशपाल को अचानक चक्कर आ गया था। तब उन्हें जम्मू के अस्पताल में भर्ती कराया गया, लेकिन उनकी हालत में सुधार नहीं हुआ। हालत गंभीर होने पर उन्हें ऊधमपुर के कमांड अस्पताल में भर्ती किया गया था। बाद में सेना के अधिकारियों ने उनके परिजनों को सूचना दी और पत्नी शोभा रावत को भी अस्पताल बुला लिया, लेकिन डॉक्टरों की तमाम कोशिशों के बावजूद यशपाल बच नहीं सके। छह अक्टूबर की रात साढ़े 11 बजे यशपाल का निधन हो गया। यशपाल अपने पीछे पत्नी, बेटे सुजल रावत और बेटी सृष्टि रावत को बिलखता छोड़ गए हैं। उनका बेटा सुजल अभी 14 साल का है, जबकि बेटी सिर्फ 12 साल की है। पिता के निधन से दोनों बच्चे सदमे में हैं। परिजनों ने बताया कि यशपाल कुछ दिन पहले एक महीने की छुट्टी पर घर आए थे। छुट्टी बिताने के बाद वो 3 अक्टूबर को ही पीरूमदारा से जम्मू के लिए रवाना हुए थे। कहा था कि जल्द ही लौटेंगे, लेकिन उनके जाने के तुरंत बाद ही बुरी खबर आ गई। जवान के निधन से क्षेत्र में मातम पसरा है।

Loading...

Latest Uttarakhand News Articles

वीडियो : श्री बदरीनाथ धाम से जुड़े अनसुने रहस्य
वीडियो : उत्तराखंड का अमृत: किलमोड़ा
वीडियो : IPS अधिकारी के रिटायर्मेंट कार्यक्रम में कांस्टेबल को देवता आ गया

उत्तराखंड की ट्रेंडिंग खबरें

वायरल वीडियो

इमेज गैलरी

Trending

SEARCH

पढ़िये... उत्तराखंड की सत्ता से जुड़ी हर खबर, संस्कृति से जुड़ी हर बात और रिवाजों से जुड़े सभी पहलू.. rajyasameeksha.com पर।


Copyright © 2017-2020 राज्य समीक्षा.

To Top