पहाड़ से दुखद खबर..बदहाल स्वास्थ्य सेवाओं ने ली एक मां की जान (Madhavi death in Almora)
Connect with us
Image: Madhavi death in Almora

पहाड़ से दुखद खबर..बदहाल स्वास्थ्य सेवाओं ने ली एक मां की जान

मृतक के पति का आरोप है कि उनकी पत्नी की तबीयत बिगड़ने के दौरान वहां डॉक्टर और नर्स नहीं थे। इलाज में हुई देरी ने माधवी की जान ले ली।

पहाड़ में स्वास्थ्य संसाधनों की कमी का खामियाजा प्रसूताओं को अपनी जान देकर चुकाना पड़ रहा है। मां बनना किसी भी महिला के लिए उसकी जिंदगी का सबसे अहम पल होता है। कहते हैं गर्भावस्था के दौरान प्रसूता को चिंतामुक्त रहना चाहिए, लेकिन पहाड़ की महिलाएं इस दौरान बेहद डरी हुई रहती हैं, और ये डर स्वाभाविक भी है। अब अल्मोड़ा की रहने वाली माधवी का केस ही देख लें। माधवी ने शनिवार को अल्मोड़ा के जिला अस्पताल में एक बेटी को जन्म दिया। परिवार के लोग बेहद खुश थे, लेकिन प्रसव के कुछ ही घंटे बाद माधवी चल बसी। बताया जा रहा है कि सामान्य प्रसव होने के डेढ़ घंटे बाद प्रसूता का ब्लड प्रेशर अचानक गिरने लगा। हालत बिगड़ने पर उसे सुशीला तिवारी अस्पताल हल्द्वानी के लिए रेफर किया गया, जहां माधवी की मौत हो गई। वहीं माधवी के पति ने उसकी मौत के लिए जिला अस्पताल के स्टाफ को जिम्मेदार ठहराया है। मृतक के पति का आरोप है कि उनकी पत्नी की तबीयत बिगड़ने के दौरान वहां डॉक्टर और नर्स नहीं थे। इलाज में हुई देरी ने माधवी की जान ले ली। माधवी अपने पति राजेंद्र सतवाल के साथ अल्मोड़ा के खगमरा कोट में रहती थी। आगे पढ़िए

यह भी पढ़ें - अचानक गढ़वाल कमिश्नर ऑफिस में आए CM त्रिवेन्द्र..मौके से गायब कर्मचारियों का रोका वेतन
शनिवार को प्रसव पीड़ा होने पर परिजन माधवी को जिला अस्पताल लाए थे। जहां माधवी ने एक बेटी को जन्म दिया। रात साढ़े आठ बजे तक सब ठीक रहा। इसके बाद माधवी का ब्लड प्रेशर अचानक गिरने लगा। आरोप है कि उस समय डॉक्टर और नर्स नहीं थे। माधवी की तबीयत ज्यादा खराब हो गई। बाद में डॉक्टर और नर्स मौके पर पहुंचे तो जरूर लेकिन तब तक पल्स रेट और हार्ट बीट नहीं थी। ईसीजी में कुछ संकेत मिल रहे थे। रात साढ़े नौ बजे माधवी को हायर सेंटर के लिए रेफर कर दिया गया। रात डेढ़ बजे जब परिजन माधवी को लेकर एसटीएच पहुंचे तो डॉक्टरों ने प्रसूता को मृत घोषित कर दिया। माधवी के परिजनों का कहना है कि जिस वाहन में माधवी को दूसरे अस्पताल के लिए रेफर किया गया, उसमें वेंटिलेटर नहीं था। एंबुलेंस में वेंटीलेटर होता तो माधवी की जान बच सकती थी। माधवी बिष्ट हल्द्वानी के एक नर्सिंग कॉलेज में कार्यरत थीं। मृतक के पति ने कहा कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद वो स्वास्थ्य निदेशक या सीएमओ अल्मोड़ा समेत उच्चाधिकारियों से शिकायत करेंगे। उन्होंने मामले की जांच की मांग की है।

Loading...

Latest Uttarakhand News Articles

वीडियो : खूबसूरत उत्तराखंड : स्वर्गारोहिणी
वीडियो : श्री बदरीनाथ धाम में बर्फबारी का मनमोहक नजारा देखिये..
वीडियो : उत्तराखंड में मौजूद है परीलोक...जानिए खैंट पर्वत के रहस्य

उत्तराखंड की ट्रेंडिंग खबरें

वायरल वीडियो

इमेज गैलरी

SEARCH

पढ़िये... उत्तराखंड की सत्ता से जुड़ी हर खबर, संस्कृति से जुड़ी हर बात और रिवाजों से जुड़े सभी पहलू.. rajyasameeksha.com पर।


Copyright © 2017-2021 राज्य समीक्षा.

To Top