उत्तराखंड देहरादूनLetter of threat of bomb blast in 6 railway stations of Uttarakhand

उत्तराखंड के 6 रेलवे स्टेशनों में बम ब्लास्ट की धमकी, जैश-ए-मोहम्मद के नाम से आया लेटर

Uttarakhand के 6 railway stations में bomb blast की धमकी दी गई है। पत्र भेजने वाले ने खुद को आतंकी संगठन Jaish-e-Mohammed का एरिया कमांडर बताया है।

uttarakhand news rajya sameeksha Vikalp rahit sankalp sep 22
uttarakhand blast threat: Letter of threat of bomb blast in 6 railway stations of Uttarakhand
Image: Letter of threat of bomb blast in 6 railway stations of Uttarakhand (Source: Social Media)

देहरादून: उत्तराखंड के प्रसिद्ध तीर्थ स्थान असामाजिक तत्वों के निशाने पर रहे हैं। जनवरी में लखनऊ पुलिस को आए एक फोन कॉल में केदारनाथ मंदिर को बम से उड़ाने की धमकी दी गई थी।

threat of bomb blast in 6 railway stations of Uttarakhand

अब एक बार फिर धमकी भरे पत्र ने शासन-प्रशासन की नींद उड़ा दी है। एक खबर के मुताबिक इस बार रुड़की रेलवे स्टेशन के अधीक्षक को धमकी भरा पत्र मिला है। जिसमें 21 मई को लक्सर, नजीबाबाद, देहरादून, रुड़की, ऋषिकेश, हरिद्वार रेलवे स्टेशन समेत कई रेलवे स्टेशनों के अलावा हरिद्वार और अन्य धार्मिक स्थलों को बम से उड़ाने की धमकी दी गई है। पत्र भेजने वाले ने खुद को आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद का एरिया कमांडर बताया है। पत्र मिलने के बाद प्रशासन में हड़कंप मचा हुआ है। इस वक्त देश में जिस तरह तनाव का माहौल बना हुआ है, उसे देखते हुए चिंता और बढ़ गई है। लेटर में उत्तराखंड के सीएम का नाम भी लिखा है, साथ ही उन्हें भी टार्गेट बताया गया है।

ये भी पढ़ें:

लेटर मिलने के बाद उत्तराखंड और यूपी के रेलवे स्टेशनों पर सतर्कता बढ़ा दी गई है। घटना शनिवार की है। रुड़की रेलवे स्टेशन अधीक्षक को एक लेटर मिला। इसमें खुद को आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद का एरिया कमांडर सलीम अंसारी बता कर कई रेलवे स्टेशनों और धार्मिक स्थलों को बम से उड़ाने की धमकी दी गई थी। अब पुलिस पूर्व में मिले इस तरह के धमकी भरे पत्रों की हैंडराइटिंग का मिलान कर रही है। बता दें कि अप्रैल 2019 में भी इस तरह का धमकी भरा पत्र मिला था। उधर मामले को लेकर डीजीपी अशोक कुमार ने कहा कि कोई मानसिक रूप से विक्षिप्त व्यक्ति पिछले 20 साल से इस तरह के धमकी भरे पत्र भेज रहा है। फिर भी एहतियात बरती जा रही है। रेलवे ने भी मामले को लेकर उच्चाधिकारियों को अवगत करा दिया है। मामला संवेदनशील होने के चलते पुलिस अलर्ट मोड में है। पुलिस पत्र भेजने वाले के बारे में जानकारी जुटा रही है।