उत्तराखंड पिथौरागढ़Video of child death in Pithoragarh BD Pandey Hospital

उत्तराखंड से सामने आया मार्मिक वीडियो, OPD लाइन में लगे पिता की गोद में बच्चे की मौत

पिथौरागढ़ सरकारी अस्पताल में ओपीडी की लाइन में लगे पिता की गोद में बच्चे ने तोड़ा दम, परिजनों ने लगाए गंभीर आरोप..देखिए वीडियो

uttarakhand news rajya sameeksha Vikalp rahit sankalp sep 22
pithoragrh hospital video: Video of child death in Pithoragarh BD Pandey Hospital
Image: Video of child death in Pithoragarh BD Pandey Hospital (Source: Social Media)

पिथौरागढ़: खराब स्वास्थ्य व्यवस्थाओं के कारण चर्चा में रहने वाला उत्तराखंड से एक वीडियो वारल हो रही है जो कि आपको भी विचलित कर देगी। हाल ही में ऋषिकेश से एक खबर आई थी जहां देरी के चलते 6 महीने की बच्ची ने दम तोड़ दिया। इस के बाद अब पिथौरागढ़ से एक वीडियो वायरल हो रही है

child death in Pithoragarh BD Pandey Hospital

एक बच्चे ने अपने पिता की गोद में दम तोड़ दिया है। वीडियाे पिथौरागढ़ के जिला अस्पताल का है। जिसमें दिख रहा है कि एक बच्चे की मौत इलाज के अभाव में पिता की गोद में हो गई। यह वीडियो पूरे सूबे की स्वास्थ्य व्यवस्था पर सवाल उठा रहा है। वीडियो में दिख रहा है कि एक बच्चे को लेकर उसका पिता जिला अस्पताल में इलाज कराने पहुंचा है लेकिन उपचार न मिल पाने के कारण गोद में ही बच्चे की मौत हो गई है। इस घटना का वीडियाेे इंटरनेट मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। वायरल वीडियो बीते शनिवार का पिथौरागढ़ के बीडी पांडे जिला अस्पताल का बताया जा रहा है। वहीं वीडियो बनाने वाला अस्पताल की स्वास्थ्य व्यवस्था पर तमाम सवाल खड़े करते हुए सुनाई दे रहा है। आगे देखिए वीडियो

ये भी पढ़ें:

बताया जा रहा है कि एक पिता गंभीर रूप से बीमार बच्चे को लेकर इमरजेंसी वार्ड में गया। इमरजेंसी में देखने की बजाए उसे ओपीडी में भेज दिया गया है। और इस दौरान बच्चे की मौत हो गई। इस वीडियो में अस्पताल परिसर में पिता कपड़े में लिपटे बेटे का शव गोद में लेकर बैठ कर आंसू बहा रहा है। वीडियो में ही बाद में बच्चे को लेकर जाते हुए परिजन भी नजर आ रहे हैं। वहीं वायरल वीडियो के संबंध में जब अस्पताल प्रशासन से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि बच्चे के उपचार में किसी तरह की लापरवाही नहीं बरती गई। इमरजेंसी में चेकअप के बाद जांच की गई, बच्चा रक्त संबंधी बीमारी से ग्रसित था। उपचार से ही बच्चे की मौत हुई है। अस्पताल की व्यवस्था पर उठाए जा रहे सवाल बेबुनियाद हैं।मुख्य चिकित्साधीक्षक डॉ जेएस नबियाल का कहना है कि बच्चे के उपचार में किसी तरह की लापरवाही नहीं बरती गई। इमरजेंसी में जांच कराई गई। रक्त संबंधी बीमारी से बच्चे की मौत हुई है।