Connect with us
Uttarakhand Government Coronavirus donate Information
Image: Good news for uttarakhand

केंद्र से उत्तराखंड को मिली कई सौगात, 2 मिनट में पढ़िए आज की बेहतरीन खबर

केंद्र से उत्तराखंड को मिली कई सौगात, 2 मिनट में पढ़िए आज की बेहतरीन खबर

केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री एम वेंकैया नायडू ने उत्तराखंड दौरे के दौरान कई सौगातें दीं। नायडू ने दूरदर्शन केंद्र के नए भवन और क्षेत्रीय समाचार इकाई का उद्घाटन किया। अब उत्तराखंड के लोग गढ़वाली, कुमाऊंनी और जौनसारी गाने सहित क्षेत्रीय बोलियों में आकाशवाणी सुनेंगे। उत्तराखंड को आकाशवाणी और दूरदर्शन के अपने चैनल भी मिलेंगे। उत्तराखंड की बोली भाषा में बुलेटिन तैयार किए जाएंगे। चैनल का प्रारम्भिक प्रसारण 15 जुलाई से शुरू होगा। गतिविधियां 24 घंटे संचालित होंगी। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत भी प्रदेश के लोगों से मन की बात करेंगे। इसी के साथ ही वेंकैया नायडू ने कहा कि दूरदर्शन केंद्र खुलने से प्रदेश की संस्कृति बचेगी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जिस तरह से आकाशवाणी के माध्यम से मन की बात का प्रसारण कर रहे हैं उसी तरह प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत भी प्रदेश के लोगों को आकाशवाणी केंद्र से मन की बात करें।

वहीं कार्यक्रम में सीएम त्रिवेंन्द्र सिंह रावत और सांसद रमेश पोखरियाल निशंक और माला राज्य लक्ष्मी शाह भी मौजूद रहे। केंद्रीय शहरी विकास मंत्री एम वेंकैया नायडू उत्तराखंड में केंद्रीय योजनाओं की स्थिति से खुश नहीं हैं। उन्होंने राज्य को केंद्रीय योजनाओं के लिए 55.7 करोड़ रुपये की वित्तीय मदद भी मंजूर की। देहरादून के एक होटल में शहरी और आवास विभाग की समीक्षा के बाद पत्रकारों से वार्ता में उन्होंने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी के आने के बाद देश में विकेंद्रीकरण हुआ है। इससे राज्यों के निकायों की स्थिति में काफी सुधार हो रहा है,लेकिन उन्होंने केंद्रीय योजनाओं में उत्तराखंड की स्थिति पर अंसतोष जताया। समीक्षा करते हुए जब उत्तराखंड सरकार ने दो तीन साल और वक्त की जरूरत बताई तो नायडू ने कहा कि मैं यहां किसी पर दोष लगाने नहीं आया हूं। लेकिन सच्चाई ये है कि इन 17 सालों में उत्तराखंड बिल्कुल पीछे है।

17 साल कम नहीं होते। हालांकि त्रिवेन्द्र सरकार को सिर्फ 100 दिन ही हुए हैं पर अधिकारी तो वही हैं। विकास कार्य में जो केंद्र की योजना हैं उन पर अमल करने की स्थिति कतई ठीक नहीं है। बात सिर्फ विकास की ही नहीं केंद्र के द्वारा संचालित एलईडी वितरण के मामले में भी उत्तराखंड सरकार बेहद पीछे है। इशारों इशारों में रिश्वत के बगैर काम न करने वाले कर्मचारियों पर भी नायडू ने निशाना साधा। उन्होंने कहा कि हर राज्य के नगर निकाय का अपना एक्शन प्लान है। इसके अंतर्गत अगले तीन साल के लिए राज्य के एक्शन प्लान को स्वीकृति दी गई है। केंद्र की विकास योजनाओं को पूरा करने में राज्य की स्थिति ठीक नहीं है। योजनाओं को लेकर उत्तराखंड की स्थिति काफी पिछड़ी है। योजनाओं को धरातल तक पहुंचाने के लिए अफसरों को अपनी कार्यप्रणाली में सुधार लाना होगा। उन्होंने कहा कि शहर के हालात देखकर उनका चयन स्मार्ट सिटी के लिए होता है।

दून के लोगों के कारण ही शहर को स्मार्ट सिटी की सूची में स्थान मिल सका है। उन्होंने स्मार्ट सिटी पर चुटकी लेते हुए कहा कि उनका खुद का क्षेत्र अभी स्मार्ट सिटी की सूची में शामिल नहीं हो सका है। मानकों के मुताबिक ही स्मार्ट सिटी के लिए शहर का चयन किया जाता है। एलईडी लाइट योजना में उत्तराखंड काफी पीछे है, इसमें सुधार की जरूरत है। उन्होंने बिल्डिंग बायलॉज में भी बदलाव करने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि इसके लिए ऑनलाइन परमिशन की जरूरत है। इस अवसर पर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत भी उपस्थित रहे। इससे पहले केंद्रीय मंत्री ने अमृत सिटी,स्मार्ट सिटी, स्वच्छ भारत और सबके लिए आवास योजना का प्रेजेंटेशन देखा। कुल मिलाकर कहें तो उत्तराखंड के लिए लगातार अच्छी खबरें निकलकर सामने आ रही हैं। अब इंतजार 15 जुलाई का है जब आपको गढ़वाली और कुमाउंनी बोली में बुलेटिन्स चलते दिखेंगे।

Loading...

Latest Uttarakhand News Articles

वीडियो : उत्तराखंड का अमृत: किलमोड़ा
वीडियो : बाघ-तेंदुओं से अकेले ही भिड़ जाता है पहाड़ का भोटिया कुत्ता
वीडियो : उत्तराखंड में मौजूद है परीलोक...जानिए खैंट पर्वत के रहस्य

उत्तराखंड की ट्रेंडिंग खबरें

वायरल वीडियो

इमेज गैलरी

SEARCH

To Top