Video: उत्तराखंड का सपूत चला गया, होली पर घर आया था, नम आंखों से हुई विदाई (Jawan hitesh khanayat died in a accident )
Connect with us
Image: Jawan hitesh khanayat died in a accident

Video: उत्तराखंड का सपूत चला गया, होली पर घर आया था, नम आंखों से हुई विदाई

Video: उत्तराखंड का सपूत चला गया, होली पर घर आया था, नम आंखों से हुई विदाई

किस्मत का ये कैसा खेल है ? भारतीय सेना का वो जवान होली की छुट्टियां मनाने घर आया था। वो तो परिवार को होली के रंगों में सराबोर करने आया था। कौन जानता था कि मौत काल बनकर उसके पीछे पड़ी है। 15 कुमाऊं रेजीमेंट का वीर जवान हितेश खनायत कालाढूंगी के चुनाखान के मदनबेल गांव का रहने वाला था। इस बार वो छुट्टियां मनाने अपने परिवार के बीच मौजूद था। घर में खुशियों का माहौल था कि उनका लाडला इस पर्व पर साथ में है। बताया जा रहा है कि हितेश किसी काम के सिलसिले में बाजार जा रहे थे। वो बाइक पर सवार थे। ना जाने क्या हुआ कि उनकी बाइक फिसल गई। इस हादसे में हितेश खनायत गंभीर रूप से घायल हो गए। होली के मौके पर परिवार में मातम मच गया। हितेश कोमा में चले गए थे। इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई और पूरे परिवार समेत पूरा का पूरा गांव शोक में डूब गया।

यह भी पढें - देवभूमि का सेनानायक, कीर्ति चक्र विजेता, 8 आतंकियों को सुलाया मौत की नींद
यह भी पढें - देवभूमि का अमर शहीद, जिसने नारा दिया था ‘सीना चौड़ा छाती का, वीर सपूत हूं माटी का’
देश की रक्षा का जज्बा हितेश में पहले से ही था। अभी तीन साल पहले ही वो 15 कुमाऊं रेजीमेंट में भर्ती हुए थे। बताया जा रहा है कि हितेश की तैनाती आसाम में थी। हितेश का एक भाई है, जो देश की सेना में ही तैनात है। हितेश की मां और पिता किसान है। माता-पिता ने सोचा था कि घर में जल्द ही एक बहू आएगी। शादी की तैयारियां चल रही थी। लेकिन ये सपना काल के गाल में समा गया। हितेश खनायत की शादी कराने की ख्वाहिश संजोए माता पिता को एक गहरा आघात लगा है। जवान हितेश के पार्थिव शरीर को सैन्य सम्मान के साथ कोशी नदी के किनारे उनकी अंतिम विदाई दी गई। हितेश कुछ दिन पहले ही छुट्टियों पर आए थे। मां-पिता के दुलारे हितेश को किसी काम की वजह से बाजार जाना था। लेकिन कौन जानता था कि उनके साथ एक ऐसा हादसा हो जाएगा ? माता-पिता का रो-रोकर बुरा हाल है।

यह भी पढें - उत्तराखंड के अमर शहीद केसरी चन्द, सिर्फ 24 साल की उम्र में ही देश के लिए कुर्बान...नमन
यह भी पढें - देवभूमि का नायक, लेफ्टिनेंट जनरल बलंवत सिंह नेगी, चीन-पाकिस्तान का बाप है ये हीरो
हितेश को सैन्य सम्मान के साथ आखिरी विदाई दी गई। हर किसी की आंखें नम थी। हर कोई आंसू बहा रहा था। कालाढूंगी के चुनाखान मदनबेल का रहने वाले हितेश खनायत की याद में उनके परिवारवालों के आंसू नहीं थम रहे। भगवान परिवार को हर दुख सहने की ताकत दे। जय हिंद।

Loading...

Latest Uttarakhand News Articles

वीडियो : खूबसूरत उत्तराखंड : स्वर्गारोहिणी
वीडियो : उत्तराखंड का अमृत: किलमोड़ा
वीडियो : उत्तराखंड में मौजूद है परीलोक...जानिए खैंट पर्वत के रहस्य

उत्तराखंड की ट्रेंडिंग खबरें

वायरल वीडियो

इमेज गैलरी

SEARCH

To Top