जब देवभूमि में भीम ने बनाया ये पुल, तो स्वर्गारोहिणी जा सके पांडव...आज भी वैसा ही मजबूत है (Bhim pul in badrinath )
Connect with us
Uttarakhand Govt Corona Awareness
Image: Bhim pul in badrinath

जब देवभूमि में भीम ने बनाया ये पुल, तो स्वर्गारोहिणी जा सके पांडव...आज भी वैसा ही मजबूत है

जब देवभूमि में भीम ने बनाया ये पुल, तो स्वर्गारोहिणी जा सके पांडव...आज भी वैसा ही मजबूत है

उत्तराखंड यानी कदम कदम पर रहस्य और रोमांच की भूमि। इस धरती में रामायण से जुड़े सबूत भी आपको मिल जाएंगे, तो महाभारत काल से जुड़े अभेद रहस्यों से भी सामना होगा। आज जिस रहस्य से हम आपको रू-ब-रू करवाने जा रहे हैं। उसे खुद बदरीनाथ आए श्रद्धालु अपनी आंखों के सामने देख भी रहे हैं। जी हां सरस्वती नदी पर बना भीम पुल अब हर किसी के लिए आकर्षण का केंद्र बन गया है। भीम पुल को लेकर मान्यता है कि पांडवों को स्वर्गारोहिणी यात्रा के दौरान सरस्वती नदी पार करनी थी। नदी का भयंकर बहाव था और पांडवों को हर हाल में इसे पार करना था। कहा जाता है कि महाबलशाली भीम ने विशालकाय पत्थर को सरस्वती नदी पर रखा और पुल का निर्माण किया था। एक भारी शिला से बना ये पुल आज भी उतना ही सुरक्षित है। सैकड़ों लोग इस पर आज भी आतेजाते हैं।

यह भी पढें - Video: उत्तराखंड में आछरियों ने ली एक परिवार की जान ! वायरल हो रहा है ये वीडियो
जी हां आज भी सैकड़ों की संख्या में लोग इस पर चलते हैं और महाभारत काल के दौरान इस इंजीनियरिंग की मिसाल को देख आश्चर्य चकित होते हैं। भीम पुल के पत्थर में आज भी आपको पांच अंगुलियों के निशान देखेंगे। कहा जाता है कि भीम ने जब इस पत्थर को उठाया था, तो पत्थर पर ही ये निशान पड़ गए थे। बदरीनाथ यात्रा शुरू हो चुकी है और हर यात्री भीम पुल के दर्शन करना नहीं भूलता। सुरक्षा की दृष्टि से प्रशासन ने इस पुल पर पैराफिट बाउंड्री बनाई है, जिससे कोई नदी में ना जा गिरे। बताया जा रहा है कि इस बार 50 हजार से ज्यादा लोग इस पुल को देखने आ चुके हैं।

YouTube चैनल सब्सक्राइब करें -

Loading...

Latest Uttarakhand News Articles

वीडियो : IPS अधिकारी के रिटायर्मेंट कार्यक्रम में कांस्टेबल को देवता आ गया
वीडियो : उत्तराखंड का अमृत: किलमोड़ा
वीडियो : श्री बदरीनाथ धाम से जुड़े अनसुने रहस्य

उत्तराखंड की ट्रेंडिंग खबरें

वायरल वीडियो

इमेज गैलरी

SEARCH

पढ़िये... उत्तराखंड की सत्ता से जुड़ी हर खबर, संस्कृति से जुड़ी हर बात और रिवाजों से जुड़े सभी पहलू.. rajyasameeksha.com पर।


Copyright © 2017-2020 राज्य समीक्षा.

To Top