Connect with us
Uttarakhand Government Coronavirus donate Information
Image: War memorial and mobile app for uttarakhand martyrs

उत्तराखंड शहीदों की वीरगाथा बताएगी ये मोबाइल एप, देश में ऐसा पहली बार होगा

उत्तराखंड शहीदों की वीरगाथा बताएगी ये मोबाइल एप, देश में ऐसा पहली बार होगा

आखिरकार फैसला लिया जा चुका है कि उत्तराखंड- के वीर सपूतों की शौर्यगाथा को ऐसा रूप दिया जाए कि आने वाले युगों युगों तक हर कोई इन्हें याद कर सके। ये बात भी सच है कि वक्त के साथ साथ हम सब कुछ भूलने लग जाते हैं, यहां तक कि उन शहीदों को भी...जिन्होंने देश के लिए सर्वोच्च बलिदान दिया। लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। डिजिटल क्रांति के युग में इन वीरों की शौर्यगाथा को डिजिटल तरीके से पेश किया जाएगा। आपको जानकर गर्व होगा कि देश में ऐसा पहली बार होने जा रहा है। इसके लिए एक मोबाइल ऐप तैयार की जा रही है। आपको बता दें कि देहरादून के चीड़बाग में उत्तराखंड के पहला युद्ध स्मारक बन रहा है। इसमें शहीदों के नाम अंकित होंगे। लेकिन सबसे खास बात ये है कि इस स्मारक में आप हर शहीद की जानकारी डिजिटल तरीके से ले सकेंगे।

यह भी पढें - उत्तराखंड में ITBP जवानों ने ढूंढ निकाली महादेव गुफा, दुनिया हैरान रह गई
जी हां जब आप इस शहीद स्मारक पर आएंगे, तो वहां आपको शहीदों के नाम दिखेंगे। अगर आप उस शहीद के बारे में और भी ज्यादा जानकारी लेना चाहते हैं, तो अपने मोबाइल एप से शहीद के नाम को स्कैन करना होगा। इसके बाद आपके फोन में शहीद के बारे में हर जानकारी खुल जाएगी। रणभूमि में अपनी बहादुरी के जरिए पदक जीतने वाले सैनिकों को सामाजिक पहचान दिलाने के लिए ये एक जबरदस्त पहल है। इस शहीद स्मारक पर 1947 के बाद से अब तक शहीद हुए उत्तराखंड के सैनिकों के नाम दर्ज होने हैं। पूर्व राज्य सभा सासद तरुण विजय की पहल पर ही ये काम हुआ है। वो इस मामले को रक्षा मंत्रालय तक ले गए थे और अपनी सांसद निधि से इसके लिए धन भी मुहैया कराया। इस युद्ध स्मारक का शिलान्यास तत्कालीन रक्षा मंत्री मनोहर पार्रिकर ने किया था।

यह भी पढें - उत्तराखंड के लिए ऐतिहासिक पल लाई ये बेटी
बताया जा रहा है कि इस युद्ध स्मारक का डिजाइन बेहद ही अलग होगा। इसमें अब और भी कई चीजें जोड़ी जा रही हैं। कैंट बोर्ड के अध्यक्ष मेजर जनरल जेएस यादव की अध्यक्षता में इस प्रस्तावों को बैठक में रखा गया। युद्ध स्मारक के लिए एक खास एप्लीकेशन तैयार हो रीह है। स्मारक पर अंकित नाम को स्कैन करते ही सैनिक की वीर गाथा आपकी मोबाइल स्क्रीन पर आएगी। ये युद्ध स्मारक पूरी तरह से वाई-फाई से लेस होगा। यहां एक दीवार भी बनाई जाएगी। इस दीवार में परमवीर चक्र से अलंकृत सभी जवानों के चित्र पर नाम अंकित होंगे। इसके अलावा खास बात ये भी है कि यहां पर 100 फीट लंबा राष्ट्रीय ध्वज भी लगाया जाएगा। सेना द्वारा युद्ध स्मारक पर एक आर्टिलरी गन भी स्थापित होगी। इन सभी कामों पर लगातार जोर दिया जा रहा है।

Loading...

Latest Uttarakhand News Articles

वीडियो : उत्तराखंड में मौजूद है परीलोक...जानिए खैंट पर्वत के रहस्य
वीडियो : आछरी - गढ़वाली गीत
वीडियो : श्री बदरीनाथ धाम से जुड़े अनसुने रहस्य

उत्तराखंड की ट्रेंडिंग खबरें

वायरल वीडियो

इमेज गैलरी

SEARCH

To Top