उत्तराखंड देहरादूनWoman brutally beaten up in Dehradun Jogiwala police post

देहरादून में दिखा पुलिस का बर्बर चेहरा..महिला को करंट लगाकर, गालियां देकर बेरहमी से पीटा

महिला को बिजली का करंट लगाया गया, भद्दी-भद्दी गालियां दी गईं। मामले के तूल पकड़ने के बाद जोगीवाला चौकी के इंचार्ज दीपक गैरोला को सस्पेंड कर दिया गया है।

uttarakhand news rajya sameeksha Vikalp rahit sankalp sep 22
jogiwala police women beaten : Woman brutally beaten up in Dehradun Jogiwala police post
Image: Woman brutally beaten up in Dehradun Jogiwala police post (Source: Social Media)

देहरादून: मित्रता, सेवा, सुरक्षा...उत्तराखंड पुलिस का ध्येय वाक्य, लेकिन अपनी पुलिस इन बातों से कितना इत्तेफाक रखती है, ये आप ऊपर दिख रही तस्वीर को देखकर खुद समझ सकते हैं। मामला देहरादून का है।

Woman brutally beaten up in Jogiwala police post

यहां पुलिस चोरी के मामले में एक महिला को पकड़ कर चौकी ले गई। वहां उसे थर्ड डिग्री टॉर्चर दिया गया। महिला को बिजली का करंट लगाया गया, भद्दी-भद्दी गालियां दी गईं। मामले के तूल पकड़ने के बाद जोगीवाला चौकी के इंचार्ज दीपक गैरोला को सस्पेंड कर दिया गया है। घायल महिला का कोरोनेशन हॉस्पिटल में इलाज चल रहा है, उसकी हालत गंभीर बताई जा रही है। इस मामले में जोगीवाला पुलिस पर कई गंभीर आरोप लगे हैं। बताया जा रहा है कि एक फ्लैट में चोरी के मामले में पुलिस महिला को पकड़ कर चौकी ले गई थी। महिला उसी फ्लैट में झाड़ू-पोछा करती थी। जानकारी के अनुसार मोहकमपुर निवासी देवेंद्र ध्यानी ने 15 मई को जोगीवाला पुलिस चौकी में चोरी का केस दर्ज कराया था। देवेंद्र ध्यानी सेवानिवृत्त विज्ञानी हैं और मंत्रा अपार्टमेंट में एक फ्लैट में रहते हैं। 7 मई को वो किसी काम से दिल्ली चले गए थे। इसके बाद 14 मई को पड़ोस के फ्लैट में रहने वाली मीना रावत ने उन्हें फोन पर बताया कि फ्लैट के दरवाजे और अंदर रखी आलमारियां खुली पड़ी हैं। आगे पढ़िए

ये भी पढ़ें:

15 मई को देवेंद्र घर लौटे तो फ्लैट से सोने-चांदी के जेवर और नकदी गायब मिली। उन्होंने पुलिस से शिकायत की तो पुलिस फ्लैट में झाड़ू-पोछा करने वाली नेहरू कॉलोनी निवासी मंजू उर्फ श्रमी के घर पहुंची। पीड़ित महिला ने बताया कि पुलिसकर्मियों ने पहले तो उन्हें घर में बुरी तरह पीटा और सारा सामान बिखेर दिया। बाद में चौकी में पूछताछ के दौरान उसके ऊपर बर्फ डाली और करंट लगाया। बेल्ट और जूतों से बुरी तरह पीटने के साथ ही उसे गालियां दी। इसके बाद पुलिसकर्मी मंजू को गंभीर हालत में उसके घर छोड़ गए। मंजू के परिजनों के मुताबिक उसकी हालत गंभीर बनी हुई है। वह खाना भी नहीं खा पा रही। पुलिस को मंजू के घर से चोरी का सामान भी नहीं मिला। उधर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जन्मेजय खंडूड़ी ने महिला के आरोपों की गोपनीय जांच कराई तो पिटाई की बात सही निकली। एसएसपी ने जोगीवाला चौकी इंचार्ज दीपक गैरोला को सस्पेंड कर दिया है। उन्होंने कहा कि अगर मामले में अन्य पुलिसकर्मियों की सहभागिता पाई गई तो उनके खिलाफ भी कार्रवाई की जा सकती है