उत्तराखंड में 2 नवंबर से स्कूल खोलना मुश्किल, सरकारी स्कूलों ने खड़े किए हाथ (Difficult to open school in Uttarakhand from 2 November)
Connect with us
Image: Difficult to open school in Uttarakhand from 2 November

उत्तराखंड में 2 नवंबर से स्कूल खोलना मुश्किल, सरकारी स्कूलों ने खड़े किए हाथ

निजी स्कूलों के बाद आने वाले 2 नवंबर से अब सरकारी स्कूलों का खुलना भी मुश्किल हो गया है। सरकारी स्कूलों ने बच्चों की सुरक्षा की जिम्मेदारी लेने से साफ तौर पर इंकार कर दिया है।

उत्तराखंड में आने वाले 2 नवंबर से राज्य सरकार ने सभी स्कूलों को खोलने के आदेश तो जारी कर दिए हैं मगर बड़ा सवाल यह है कि क्या स्कूल प्रशासन स्कूलों को संचालित करने के लिए अभी तैयार हैं? क्या वे कोरोना जैसी महामारी के बीच में बच्चों की जिम्मेदारियों को उठाने के पूरी तरह से सक्षम हैं? निजी स्कूल आने वाले 2 नवंबर से स्कूल खोलने के निर्णय के ऊपर काफी आनाकानी कर रहे हैं। वहीं निजी स्कूलों के बाद अब सरकारी स्कूलों ने भी स्कूलों को खोलने के निर्णय के ऊपर काफी प्रश्न उठाने शुरू कर दिए हैं। निजी स्कूलों के बाद आने वाले 2 नवंबर से अब सरकारी स्कूलों का खुलना भी मुश्किल हो गया है। बता दें कि सरकारी स्कूलों ने बच्चों की सुरक्षा की जिम्मेदारी लेने से साफ तौर पर इंकार कर दिया है। सरकारी स्कूलों का कहना है कि सरकारी स्कूलों के अंदर वैसे तो सुरक्षा के मानकों का ठीक तरीके से पालन होगा। मगर उसके बावजूद भी अगर संक्रमण फैला तो वह किसी भी विद्यार्थी की जिम्मेदारी नहीं लेंगे और ऐसे में अगर किसी के ऊपर कार्यवाही की जाती है तो वे उसका भी विरोध करेंगे।

यह भी पढ़ें - पहाड़ से दुखद खबर..गलती से दूसरे इलेक्ट्रिक फीडर पर चढ़ा लाइनमैन, करंट से झुलसकर मौत
बता दें कि सरकार द्वारा जारी की गई एसओपी के अंदर यह स्पष्ट तौर पर लिखा गया है कि स्कूल के अंदर बच्चों के स्वास्थ्य की पूरी जिम्मेदारी स्कूल की होगी और अगर कोई बच्चा संक्रमित होता है तो स्कूल प्रशासन के ऊपर कड़ी कार्यवाही की जाएगी। इस बात के खिलाफ निजी स्कूलों ने एक स्वर में विरोध किया था। वहीं निजी स्कूलों के बाद सरकारी स्कूल ने भी इस एसओपी का विरोध करना शुरू कर दिया है। सरकारी स्कूलों का कहना है कि स्कूल के अंदर सरकार की सभी गाइडलाइंस का पालन किया जाएगा। बच्चों की सुरक्षा के सभी इंतजाम किए जाएंगे। मगर इस बात की जिम्मेदारी कोई कैसे ले सकता है कि बच्चे संक्रमित नहीं होंगे। उन्होंने कहा कि सरकारी स्कूल किसी भी बच्चे के स्वास्थ्य की गारंटी नहीं दे सकता है। एसओपी के अंदर यह साफ तौर पर निर्देश दिए गए हैं अगर बच्चों को संक्रमण होता है तो सरकार प्रिंसिपल एवं प्रबंधक के खिलाफ सख्त कार्यवाही करेगी जिसका स्कूल पुरजोर विरोध कर रहे हैं। सरकारी स्कूलों का कहना है कि जब अभिभावकों की मर्जी से बच्चों को स्कूल बुलाया जा रहा है तो उनके संक्रमण की जिम्मेदारी आखिर केवल स्कूल की ही क्यों होगी?

यह भी पढ़ें - गढ़वाल: खेत में काम करने गए बुजुर्ग को गुलदार ने मार डाला..झाड़ी में मिली अधखाई लाश
उत्तराखंड में जिस तरीके से 2 नवंबर से स्कूल खोलने के ऊपर तमाम सवाल खड़े हो रहे हैं उससे एक बड़ा पहलू सामने आ रहा है। अब निजी स्कूलों के बाद सरकारी स्कूल भी एक स्वर में आवाज उठा रहे हैं और अपना पक्ष सामने रख रहे हैं। उनका कहना भी जायज है। सरकार के द्वारा जारी की गई एसओपी में यह साफ तौर पर लिखा है अगर बच्चों को स्कूल में आने के बाद संक्रमण होता है तो इसकी जिम्मेदारी स्कूल की होगी। जिस तरह से सरकारी स्कूल और निजी स्कूल सरकार द्वारा स्कूल खोलने की एसओपी का विरोध कर रहे हैं इससे यह तो तय है कि आने वाले 2 नवंबर से कई स्कूल अब भी स्कूलों का संचालन नहीं करेंगे। वहीं अशासकीय स्कूलों के पास भी सैनिटाइजेशन तक के लिए पैसा नहीं है। 2 नवंबर से स्कूल खोलने के बाद रोजाना सैनिटाइजेशन किया जाना है मगर स्कूलों के पास इसके लिए बजट नहीं है। हालांकि राज्य के स्कूलों को रमसा के बजट से पैसा लेने के लिए कहा है मगर अशासकीय विद्यालयों के पास इसके लिए पैसा नहीं है। ऐसे में तकरीबन 67 अशासकीय विद्यालय खोलना बेहद मुश्किल हो गया है। इन विद्यालयों को कहना है कि जब बच्चों की सुरक्षा और पढ़ाई के लिए नियम एक जैसे हैं अशासकीय विद्यालयों को सैनिटाइजेशन का बजट आखिर सरकार द्वारा क्यों नहीं दिया जा रहा। अशासकीय विद्यालयों के पास स्कूल के रोज सैनिटाइजेशन के लिए बजट नहीं है। इतना ही उनको किसी भी प्रकार की सहायता नहीं मिल रही है। वहीं दूसरी ओर निजी स्कूल के साथ अब सरकारी स्कूल भी सरकार के 2 अक्टूबर से स्कूल खोलने के निर्णय के खिलाफ हो रखे हैं और उन्होंने भी विद्यार्थियों की जिम्मेदारी लेने से साफ इंकार कर दिया है।

Loading...

Latest Uttarakhand News Articles

वीडियो : बाघ-तेंदुओं से अकेले ही भिड़ जाता है पहाड़ का भोटिया कुत्ता
वीडियो : उत्तराखंड का अमृत: किलमोड़ा
वीडियो : यहां जीवित हो उठता है मृत व्यक्ति - लाखामंडल उत्तराखंड

उत्तराखंड की ट्रेंडिंग खबरें

वायरल वीडियो

इमेज गैलरी

SEARCH

पढ़िये... उत्तराखंड की सत्ता से जुड़ी हर खबर, संस्कृति से जुड़ी हर बात और रिवाजों से जुड़े सभी पहलू.. rajyasameeksha.com पर।


Copyright © 2017-2021 राज्य समीक्षा.

To Top