उत्तराखंड देहरादूनonline property mutation in dehradun

देहरादून वालों को बड़ी राहत, अब घर बैठे करें प्रॉपर्टी की दाखिल खारिज..बेहद आसान है तरीका

म्यूटेशन की प्रक्रिया को ई-म्यूटेशन में बदल दिया गया है। अब लोग घर बैठे ऑनलाइन आवेदन कर सकेंगे और म्यूटेशन से जुड़ी हर डिटेल एक क्लिक पर पा सकेंगे।

uttarakhand news rajya sameeksha Vikalp rahit sankalp sep 22
dehradun online mutation: online property mutation in dehradun
Image: online property mutation in dehradun (Source: Social Media)

देहरादून: देहरादूनवासियों के लिए म्यूटेशन की प्रक्रिया आसान कर दी गई है।

online property mutation in dehradun

नगर निगम ने भवन कर अनुभाग को आधुनिकता से जोड़ते हुए नामान्तरण (म्यूटेशन) प्रक्रिया को अब ई-म्यूटेशन में बदल दिया है। इसका मतलब ये है कि अब दूनवासियों को म्यूटेशन के लिए सरकारी दफ्तरों के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे। वो घर बैठे ऑनलाइन आवेदन कर सकेंगे और म्यूटेशन से जुड़ी हर डिटेल एक क्लिक पर पा सकेंगे। म्यूटेशन की प्रक्रिया ऑनलाइन होने से और भी कई फायदे होंगे। लोग ऑनलाइन माध्यम से संपत्ति कर जमा करा सकते हैं, साथ ही नगर निगम के कामों से जुड़ी जानकारी भी ऑनलाइन हासिल की जा सकती है। उपभोक्ता अपनी शिकायत ऑनलाइन दर्ज करा सकते हैं। दाखिल खारिज की प्रक्रिया ऑनलाइन होने से जनता को बड़ा फायदा होगा। उन्हें घर बैठे म्यूटेशन की सुविधा मिलेगी, साथ ही बिचौलियों का काम भी खत्म हो जाएगा

ये भी पढ़ें:

ऑनलाइन सेवाओं का उपयोग करने के लिए आपको करना क्या होगा, ये भी बताते हैं। इसके लिए सबसे पहले नगर निगम की ऑफिशियल वेबसाइट www.nagarnigamdehradun.com पर जाएं। इसके बाद pay online tax पर क्लिक करें। यहां आवदेनकर्ता को संपत्ति कर जमा करने, दाखिल खारिज का आवेदन करने और स्वकर निर्धारण एवं भवन कर से संबंधित शिकायत दर्ज कराने की सुविधा मिलेगी। संपत्ति के दाखिल खारिज का आवेदन पत्र ऑनलाइन भरना पड़ेगा। सारे कागजात ऑनलाइन अपलोड किए जाएंगे। सुविधानुसार दाखिल खारिज शुल्क 150 रुपये ऑनलाइन व नगर निगम के काउंटर नंबर चार पर भी जमा किया जा सकता है। दाखिल खारिज के प्रत्येक चरण पर आवेदनकर्ता व नगर निगम कार्मिकों को एसएमएस से पत्रावली संबंधी जानकारी समय से प्राप्त होगी। इसके बाद दाखिल खारिज के नोटिस एवं अंतिम प्रमाण-पत्र ऑनलाइन प्राप्त कर सकेंगे। दाखिल खारिज के अलावा भवन कर का बिल भी ऑनलाइन माध्यम से भरा जा सकता है।