उत्तराखंड पुलिस का नेक काम..भिक्षा मांगते मिले 735 बच्चों का होगा स्कूलों में दाखिला (In Uttarakhand beggars children will study in school)
Connect with us
Image: In Uttarakhand beggars children will study in school

उत्तराखंड पुलिस का नेक काम..भिक्षा मांगते मिले 735 बच्चों का होगा स्कूलों में दाखिला

उत्तराखंड में भिक्षावृत्ति के अंदर संलिप्त बच्चों में से पुलिस ने तकरीबन डेढ़ हजार बच्चे चिन्हित कर लिए हैं और इनमें से लगभग 750 बच्चों को पुलिस विभिन्न स्कूलों में दाखिल कराएगी।

अक्सर हम सड़कों पर बच्चों को भीख मांगते हुए देखते हैं। ऐसे बच्चे जिनको इस उम्र में स्कूल के अंदर होना चाहिए वे सड़कों पर भीख मांग रहे हैं। सवाल यह उठता है कि आखिर बच्चों के साथ ऐसे निर्दयी व्यवहार पर सख्त एक्शन क्यों नहीं लिया जा रहा है और क्यों बच्चों को भिक्षावृत्ति मे लिप्त किया जा रहा है। हर जगह से अवहेलना झेलने वाले और सड़कों पर भीख मांगने वाले उन बच्चों की जिंदगी के बारे में आखिर क्यों नहीं सोचा जा रहा है। जरूरी है कि इस पर बात हो और यह भी जरूरी है कि इन बच्चों के भविष्य को संवारा जाए ताकि वे अपने पैरों पर खड़े होकर अपनी मेहनत से जीवन गुजार सकें। उत्तराखंड में अब इस गंभीर और चिंताजनक विषय के ऊपर पुलिस सख्त एक्शन ले रही है।

यह भी पढ़ें - उत्तराखंड से दुखद खबर...5 दिन से अनशन पर थे आचार्य निराला, ऋषिकेश एम्स में हुई मौत
उत्तराखंड में इन दिनों पुलिस द्वारा भिक्षावृत्ति के खिलाफ अभियान जोरों शोरों से चल रहा है। समस्त उत्तराखंड में "भिक्षा नहीं शिक्षा दें" अभियान जोर पकड़ रहा है और अब तक पुलिस ने तकरीबन डेढ़ हजार बच्चे चिह्नित कर लिए हैं जो अब तक भिक्षावृत्ति में लिप्त हो रखे थे। जी हां, अब इनमें से 750 बच्चों का पुलिस विभिन्न स्कूलों में दाखिला कराएगी। बता दें कि पुलिस का "भिक्षा नहीं शिक्षा दें", अभियान 1 मार्च को शुरू हुआ था और यह 30 अप्रैल तक जारी रहेगा। " भिक्षा नहीं शिक्षा दें "अभियान के तहत जनता को जागरूक भी किया जा रहा है और उनके बीच बच्चों को भिक्षा नहीं देने के संबंध में भी जागरूकता फैलाई जा रही है। इस अभियान के तहत हरिद्वार, उधमसिंह नगर, नैनीताल और देहरादून में चार टीमों का गठन किया गया है और यह टीमें इस अभियान को जोरों-शोरों से चला रही हैं।

यह भी पढ़ें - उत्तराखंड: बीच सड़क पर अपने दो शावकों के साथ आई बाघिन..दोनों तरफ रुका ट्रैफिक
डीजीपी अशोक कुमार का कहना है कि अभियान का उद्देश्य सरकारी और गैर सरकारी संस्थाओं के साथ ड्राइव चलाकर बच्चों द्वारा की जा रही भिक्षावृत्ति को रोकना है। पुलिस ने अभी तक इस अभियान के तहत डेढ़ हजार बच्चे चिन्हित कर लिए हैं और इनमें से कुल 750 बच्चों का पुलिस अब विभिन्न स्कूलों में दाखिला कराएगी। सबसे अधिक बच्चे देहरादून से चिन्हित किए गए हैं। 15 मार्च तक देहरादून में 480 बच्चे चिन्हित किए गए और उनमें से 123 बच्चों का स्कूल में एडमिशन किया जाएगा। हरिद्वार में 263 बच्चे चिह्नित किए गए जिनमें से 153 बच्चों का स्कूल में एडमिशन किया जाएगा। उधम सिंह नगर में भी 239 बच्चे चिन्हित किए गए जिनमें से 182 बच्चों को स्कूल के एडमिशन के लिए सिलेक्ट किया गया है। नैनीताल में 167 बच्चे चिन्हित किए गए हैं और उनमें से 50 बच्चों का स्कूल में एडमिशन होगा। चंपावत में 162 बच्चे चिन्हित किए गए हैं और उन सभी 162 बच्चों का जल्द ही स्कूल में एडमिशन होगा।

Loading...
Donate Plasma Campaign of Uttarakhand Govt

Latest Uttarakhand News Articles

वीडियो : केदारनाथ मंदिर का ये रहस्य आपने नहीं सुना होगा
वीडियो : राका भाई - उत्तराखंड में स्वरोजगार की कहानी
वीडियो : दन्या हत्याकांड: भुवन जोशी की हत्या से पहले क्या हुआ था

उत्तराखंड की ट्रेंडिंग खबरें

वायरल वीडियो

इमेज गैलरी

Uttarakhand CM Teerath Singh Rawat Apeal to Doctors in Uttarakhand

Trending

SEARCH

पढ़िये... उत्तराखंड की सत्ता से जुड़ी हर खबर, संस्कृति से जुड़ी हर बात और रिवाजों से जुड़े सभी पहलू.. rajyasameeksha.com पर।


Copyright © 2017-2021 राज्य समीक्षा.

To Top