उत्तराखंड चमोलीBear attacked woman in Chamoli Malli village

चमोली: घास लेने गई महिला पर खूंखार भालू ने किया हमला, बमुश्किल बच सकी जान

गैरसैंण के कुनीगाड मल्ली गांव में भालू ने एक महिला पर हमला कर दिया. भालू के हमले में घायल महिला को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है-

Chamoli Malli village: Bear attacked woman in Chamoli Malli village
Image: Bear attacked woman in Chamoli Malli village

चमोली: उत्तराखंड में जंगली जानवर दहशत का सबब बने हुए हैं. इंसानों और जानवरों के बीच मुठभेड़ की घटनाएं लगातार सामने आ रही हैं. गुलदार-हाथियों के साथ ही भालू के हमले की घटनाएं बढ़ी हैं. ताजा मामला चमोली का है, जहां गैरसैंण के कुनीगाड मल्ली गांव में भालू ने एक महिला पर हमला कर दिया. भालू के हमले में घायल महिला को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है. घटना मल्ली गांव की है, जहां बीते गुरुवार को कुन्नीगाड मल्ली गांव निवासी पूजा देवी गुरुवार सुबह घर के पास ही सड़क के ठीक ऊपर घास काट रही थी. इसी दौरान भालू ने महिला पर हमला कर दिया. दर्द से तड़पती महिला शोर मचाने लगी, जिसके बाद आसपास के ग्रामीण मौके पर पहुंचे. और किसी तरह भालू को जंगल की तरफ भगाने में कामयाब हुए. बाद में 108 बुलाई गई, जिसके बाद महिला को गैरसैंण सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया. भालू के हमले से महिला की गर्दन, कंधे और हाथों पर गहरे घाव आए. महिला की गंभीर हालत को देखते हुए रानीखेत रेफर कर दिया है.

ये भी पढ़ें:

यह भी पढ़ें - उत्तराखंड में दुखद हादसा..ट्रेन की चपेट में आने से हाथी के बच्चे की मौत
वहीँ ग्रामीणों ने बताया कि भालू ने पूजा देवी पर हमला करने से कुछ देर पहले गांव की दूसरी महिला बिमला देवी पर भी हमला करने की कोशिश की थी, जिसने किसी तरह भागकर जान बचाई. चमोली जिले में भालू के हमले की घटना नई नहीं है. लोगों ने कहा कि इलाके में पिछले कई साल से भालू का आतंक जारी है. स्थानीय लोगों ने वन विभाग से मदद भी मांगी, पर भालू के आतंक से निजात दिलाने के लिए अब तक कोई कदम नहीं उठाए गए. भालू और जंगली जानवर खेतों में घुसकर फसल बर्बाद कर देते हैं. भालू के हमले की घटनाएं लगातार बढ़ रही हैं, डरे हुए लोग शाम होते ही घरों में कैद हो जाते हैं, वहीँ इस मामले में वन विभाग के रेंजर प्रदीप गौड़ ने बताया कि घटना की सूचना मिलते ही गश्ती दल गांव में भेज दिया गया है. साथ ही भालू की सक्रियता को देखते हुए ग्रामीणों को अकेले जंगल या खेतों की तरफ न जाने की हिदायत दी गई है.