उत्तराखंड चमोलीRain and snowfall in 5 district of uttarakhand 30 November

उत्तराखंड के 5 जिलों में बारिश बर्फबारी का अलर्ट, अब पड़ेगी कड़ाके की ठंड

बरसात और बर्फबारी से होगी दिसंबर की शुरुआत, इन जिलों में बरसात को बर्फबारी की संभावना-

Uttarakhand Weather news: Rain and snowfall in 5 district of uttarakhand 30 November
Image: Rain and snowfall in 5 district of uttarakhand 30 November

चमोली: उत्तराखंड में ठंड का आगमन हो चुका है। इसी बीच मौसम विभाग ने एक बार फिर मौसम का पूर्वानुमान जारी कर दिया है। 1 दिसंबर को राज्य में बर्फबारी और बरसात की संभावना जताई है। जी हां, आने वाली 1 दिसंबर को राज्य के 5 जिलों में भारी बर्फबारी और बारिश हो सकती है। जानकारी मिल रही है कि पर्वतीय क्षेत्रों में कहीं-कहीं हल्की बर्फबारी और बरसात हो सकती है। वहीं 2 दिसंबर को भी तीन जिलों के अधिकांश क्षेत्रों में हल्की से मध्यम बरसात एवं बर्फबारी हो सकती है और अन्य जिलों में भी हल्की से मध्यम बरसात हो सकती है। चलिए आपको बताते हैं कि मौसम विभाग ने किन जिलों में बर्फबारी और बारिश की संभावना जताई है। 1 दिसंबर को उत्तरकाशी, रुद्रप्रयाग, चमोली, बागेश्वर और पिथौरागढ़ के ऊंचाई वाले स्थानों पर बर्फबारी और अधिकांश क्षेत्रों में बारिश हो सकती है। वहीं 2 दिसंबर को पिथौरागढ़, चमोली और बागेश्वर जिलों के अधिकांश क्षेत्रों में हल्की से मध्यम बारिश और बर्फबारी हो सकती है।

ये भी पढ़ें:

यह भी पढ़ें - उत्तराखंड: सीएम पुष्कर सिंह धामी का बहुत बड़ा फैसला, भंग हुआ देवस्थानम बोर्ड
अन्य जिलों में कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम बरसात होने की संभावनाएं हैं और अधिक ऊंचाई वाले क्षेत्रों पर बर्फबारी हो सकती है। इसका असर मैदानी जिलों पर भी पड़ेगा और वहां भी तापमान में गिरावट महसूस होगी। मौसम विभाग के निदेशक बिक्रम सिंह के अनुसार 4 दिसंबर के बाद मौसम शुष्क रहेगा। मौसम विभाग के निदेशक बिक्रम सिंह के अनुसार इस बारिश के बाद लोगों को सूखी ठंड से राहत मिलेगी। बता दें कि नवंबर में राज्य में सामान्य से 86 फ़ीसदी कम बारिश हुई है जिस वजह से राज्य में सूखी ठंड का प्रकोप जारी है। अल्मोड़ा, चंपावत, देहरादून, पौड़ी गढ़वाल, टिहरी गढ़वाल, हरिद्वार, नैनीताल एवं उधम सिंह नगर में इस दौरान बिल्कुल बारिश नहीं हुई है जिस वजह से सूखी ठंड पड़ रही है। ऐसे में मौसम विभाग का कहना है कि आने वाले दिनों में होने वाली बरसात से लोगों को सूखी ठंड से राहत मिलेगी। बिक्रम सिंह के अनुसार मौसम में हो रहे बदलाव के लिए पश्चिमी विक्षोभ को जिम्मेदार माना जा रहा है और पश्चिमी विक्षोभ उत्तर भारत के मौसम को प्रभावित कर रहा है।