उत्तराखंड के लिए गर्व का पल..देहरादून की इस खूबसूरत लोकेशन को मिला अंतर्राष्ट्रीय दर्जा (Dehradun Asan Barrage International Site)
Connect with us
Image: Dehradun Asan Barrage International Site

उत्तराखंड के लिए गर्व का पल..देहरादून की इस खूबसूरत लोकेशन को मिला अंतर्राष्ट्रीय दर्जा

रामसर कन्वेंशन ने देहरादून जिले के विकास नगर में स्थित आसन कंजर्वेशन रिजर्व को अंतर्राष्ट्रीय महत्व की साइट घोषित कर दिया है।

उत्तराखंड से बड़ी खबर सामने आ रही है। रामसर कन्वेंशन ने देहरादून जिले के विकास नगर में स्थित आसन कंजर्वेशन रिजर्व को अंतर्राष्ट्रीय महत्व की साइट घोषित कर दिया है। यह उत्तराखंड के लिए गर्व की बात है। इससे पहले प्रदेश के किसी भी रिजर्व को यह उपलब्धि नहीं प्राप्त हुई है। देहरादून जिले के आसन कंजर्वेशन रिजर्व को अंतरराष्ट्रीय महत्व के साइट घोषित करने के बाद रामसर साइट की संख्या 38 पहुंच गई है। यह पूरे साउथ एशिया में सबसे अधिक संख्या है। बता दें कि प्रदेश में इससे पहले कोई भी रिजर्व रामसर साइट नहीं बना है। इस बात की सूचना स्वयं मिनिस्ट्री ऑफ एनवायरनमेंट एंड फॉरेस्ट ने ट्वीट करके साझा की। वहीं वन विभाग के अधिकारियों के बीच खुशी की लहर दौड़ पड़ी है। बता दें कि वन विभाग के अधिकारी काफी लंबे समय से आसन कंजर्वेशन रिजर्व को रामसर साइट में शामिल करने का प्रयास कर रहे थे। आखिरकार उनका प्रयास सफल हुआ और विकास नगर के आसन कंजर्वेशन रिजर्व को रामसर साइट में स्थान मिल चुका है

यह भी पढ़ें - पहाड़ के सक्षम रौतेला ने रचा इतिहास, उत्तर भारत के पहले इंटरनेशनल मास्टर बने..बधाई दें
चलिए आपको रामसर साइट के बारे में बताते हैं। रामसर कन्वेंशन नम भूमि एवं पर्यावरण के संरक्षण के लिए एक विश्वस्तरीय प्रयास है जिसमें कई देशों की भागीदारी है। जैसा कि हम सब जानते ही हैं कि कैसे मनुष्यों ने प्रकृति को अपने अधीन कर रखा है। शहरीकरण लगातार बढ़ रहा है और औद्योगिकरण के कारण विश्व भर में तमाम झीलों एवं नदियों को कई प्रकार की हानि पहुंच रही है। इसी बात को मध्यनजर रखते हुए वर्ष 1971 में संयुक्त राष्ट्र ने ईरान के रामसर नामक एक स्थान पर अंतरराष्ट्रीय कन्वेंशन बुलाई थी, जिसमें विश्व के तमाम राष्ट्रों द्वारा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उनके राष्ट्रों के अंदर ऐसे क्षेत्रों को संरक्षित करने का एक संकल्प लिया गया था। भारत में कुल रामसर साइट की संख्या 38 है जिनमें से एक अब देहरादून जिले के अंदर भी मौजूद है।

यह भी पढ़ें - रुद्रप्रयाग जिले को स्वास्थ्य सेवाओं की सौगात..हंस फाउंडेशन ने दिया बड़ा तोहफा
वर्ष 2015 में विकासनगर तहसील मुख्यालय से करीबन 15 किलोमीटर दूर आसन झील और उसके आसपास के इलाके को आसन कंजर्वेशन रिजर्व घोषित कर दिया गया था। यह देश का पहला कंजर्वेशन रिजर्व है। 444.40 हेक्टेयर के भू-भाग में फैले इस रिजर्व में तकरीबन हर साल 54 से अधिक विदेशी प्रजातियों के पक्षी का आवाज पर पहुंचते हैं। मध्य एशिया समेत चीन, रूस इत्यादि इलाकों से पक्षी यहां प्रवास करते हैं। यही वो महीना है जब पक्षियों के आने का सिलसिला शुरू हो जाता है। जी हां, अक्टूबर माह में पक्षी आते हैं और दिसंबर मध्य तक इनकी संख्या सबसे अधिक हो जाती है। मार्च तक वे झील के आसपास ही रहते हैं। चकराता वन प्रभाग के प्रभागीय अधिकारी दीपचंद आर्य ने अपनी खुशी व्यक्त करते हुए कहा यह उपलब्धि विभागीय अधिकारियों एवं कर्मचारियों समेत स्थानीय लोगों के कारण प्राप्त हुई है। कर्मचारियों एवं अधिकारियों की मेहनत के बिना यह बिल्कुल भी मुमकिन नहीं हो पाता।

Loading...

Latest Uttarakhand News Articles

वीडियो : राका भाई - उत्तराखंड में स्वरोजगार की कहानी
वीडियो : रुद्रप्रयाग के दो जाँबाज..अपने दम पर बचाई 50 लोगों की जान
वीडियो : Uttarakhand में COVID Hospitals के ये हाल हैं

उत्तराखंड की ट्रेंडिंग खबरें

वायरल वीडियो

इमेज गैलरी

SEARCH

पढ़िये... उत्तराखंड की सत्ता से जुड़ी हर खबर, संस्कृति से जुड़ी हर बात और रिवाजों से जुड़े सभी पहलू.. rajyasameeksha.com पर।


Copyright © 2017-2021 राज्य समीक्षा.

To Top